संदेश

अब के नव प्रभात में भोर की उजास में ...

चित्र
अब के नव प्रभात में भोर की उजास में ... हम लगें रहें सदा शांति के प्रयास में .....! शांति पथ वास्ते ,गीत होने चाहिए  प्रभावयुक्त गीत को सुर का साथ चाहिए । गूँजते रहें ये गीत , हम हों इस प्रयास में .॥ क्रोध और कुंठा के कारणों को मत सींचो शांति के पथिकों के पाँव आप मत खींचो प्रेम नींव विश्व की , मत जियो कयास में ॥ 

श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ने , निर्भया ब्रिगेड की कमान कुमारी सृष्टि गुप्ता ,वीर नारायण ब्रिगेड की कमान मास्टर व्योम गर्ग को सौंपी

चित्र
               संभागीय बाल भवन जबलपुर द्वारा निर्भया  दिवस  दिनांक  16 दिसंबर 2014 से प्रारम्भ  मार्शल आर्ट प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन   31 दिसंबर 2014 को बाल भवन परिसर में श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव , आईपीएस , आईजी-महिला सेल , जबलपुर के मुख्यआतिथ्य में सम्पन्न । प्रशिक्षक नरेन्द्र गुप्ता  एवं सपन धर गुप्ता को शाल-श्रीफल से श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव , आईपीएस , आईजी-महिला सेल , जबलपुर द्वारा सम्मानित किया गया  ।           अपने उद्बोधन में श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ने बच्चों की भूरि भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि जो बच्चों ने मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण प्राप्त किया हैं वो किसी भी स्थिति में जीवन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है  खासकर तब और आवश्यक है जब कि सामाजिक परिस्थितियाँ सामान्य नहीं हैं । किसी को भी यह अधिकार नहीं है कि किसी अन्य व्यक्ति खासकर बालिकाओं ,  बच्चों , महिलाओं , के विरुद्ध हिंसक हो । बच्चे देश का  भविष्य हैं हमारी कोशिशें ये होनी चाहिए कि हम खुद बेहतर तरीके से जिएं  और समूचे समाज को सुख से जीनें दें । बाल भवन के इस प्रयास से मैं बेहद उत्साहित हूँ । म

वक्त का प्रवाह रोक वक्त ही उधार लें

आओ मीत लौट चलें  गीत को संवारने अर्चना का वक्त है आ बतिया सुधार लें कुछ अगर जो शेष है ,शेष जो विशेष है  वक्त का प्रवाह रोक वक्त ही उधार लें।   उधार लिए वक्त से ज़िंदगी सुधार लें और  भूले बिसरों को आज हम पुकार लें पंच  फैसले हमारी आदिम परिभाषा है तरु तट चौपाल की पत्तियां बुहार दें।

संभागीय बाल भवन जबलपुर क्रिसमस कार्यशाला का सम्पन्न

चित्र
जवाहर बाल भवन भोपाल द्वारा निर्धारित वार्षिक कैलेंडर 2014 के परिपालन में  संभागीय बाल भवन जबलपुर में पूरे माह “क्रिसमस कार्यशाला” का आयोजन किया गया यह कार्यशाला दिनांक 1 दिसंबर 2014 से 24 दिसंबर 2014 तक की अवधि तक जारी रही । कार्यशाला के दौरान संगीत विभाग के अनुदेशकों  द्वारा ऐंजिल्स द्वारा गाए जाने वाले कोरल के गायन की तकनीकी , से संगीत के छात्र- छात्राओं को बताई गई तथा कोरल एवं शांति सेवा पर आधारित गीतों की कम्पोजिंग कराई गई एवं उसके गाने का अभ्यास कराया गया ।             कला एवं क्राफ्ट विभाग की अनुदेशिका द्वारा प्रभू ईशु के जन्म के समय के दृश्य का निर्माण पेंटिंग एवं आर्ट क्राफ्ट के जरिये तैयार कराया गया ।                      कार्यशाला का समापन दिनांक 24 दिसंबर 2014 को फादर रिजवी के मुख्य आतिथ्य में विशिष्ट अतिथि श्री मनीष शर्मा , सहायक संचालक  एवं श्रीमती ज्योति उपाध्याय परियोजना अधिकारी उपस्थिति में हुआ । संभागीय बाल भवन के सेन्टा क्लाज़  बच्चों द्वारा एक ओर  अतिथियों को पुष्प गुच्छ भेंट किये गये साथ ही साथ बच्चों पर टाफ़ियाँ बरसा कर आयोजन को कौतूहल पूर्ण बना दिया ।

बालभवन कप वालीबाल टूर्नामेंट 2014

चित्र
कार्यालय संचालक , सम्भागीय बाल भवन जबलपुर म. प्र. बालभवन कप वालीबाल टूर्नामेंट 2014  दिनांक :- 02.01.2015 से 03 .01.2015 बेस्ट आफ फाइव प्रणाली                            ग्रुप ए मैच बाल भवन सीनियर एकादश विरुद्ध डी. एन. जैन स्कूल जबलपुर                       ग्रुप बी मैच                                             बाल भवन जूनियर एकादश       विरुद्ध   साई एकादश ,   जबलपुर    फाइनल    दिनांक 03.01.2015 ग्रुप ए  विजेता विरुद्ध ग्रुप बी

पेशावर त्रासदी पर बनाई पेंटिंग देख भावुक हुए माननीय मुख्यमंत्री

चित्र
माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज चौहान को   श्रीमती रेणु पांडे बाल भवन के बच्चों की बनाई पेंटिंग की के बारे में  जानकारी देते हुए  संभागीय बालभवन जबलपुर के बच्चे  पाकिस्तान  के पेशावर में 16 दिसंबर 2014 को स्कूली बच्चों पर हुए आतंकी हमले से बेहद दु:खी थे । सामूहिक प्रार्थना के उपरांत बच्चों ने विश्व में आतंक के खात्मे पर खुला के बातचीत की । सभी बच्चों  के मन में आक्रोश था ।  सभी दु:खी थे कुछ बच्चे भावुक भी थे आंखों में नमी लिए हमसे पूछा – “आतंक का अंत क्या है ? ”       बच्चों को हमने बताया कि जितना अधिक से अधिक सकारात्मकता एवं तेजी से  को बढ़ावा दिया जाएगा उतना तीव्रता से आतंक का अंत होगा । हम एक महान देश के नागरिक हैं हमें विश्व को शांति का संदेश देते रहना होगा । अगर हम कलाकार हैं तो कला के जरिये , कवि हैं तो हमारी कविताएं  सकारात्मक होनी चाहिए । सबसे पहले हम मन से कुंठा निकालें और विश्व को शांति का संदेश देने की कोशिश करें चित्रों से गीतों से कविताओं से साहित्य से ......... !! पेंटिंग पर हस्ताक्षर करते हुए मान मुख्यमंत्री जी     बस फिर क्या था किसी  ने कलम उठाई

मुख्यमंत्री को भेंट की गई बाल भवन, जबलपुर के बच्चों द्वारा बनाई पेंटिंग शक्तिरूपा

चित्र
जबलपुर   में   आयोजित   इन्द्रधनुष   कार्यक्रम   में   मुख्यमंत्री   श्री   शिवराज   सिंह   चौहान   को   बाल कलाकारों    द्वारा   बनाई   गई    पेंटिंग  “ शक्तिरूपा ”   भेंट    की    गई ।   दैनिक भास्कर  नई दुनिया    यह पेंटिंग  संभागीय बाल भवन जबलपुर के बाल कलाकारों  तान्या बड़कुल, रेशम ठाकुर, शुभमराज अहिरवार एवं रिंकी राय द्वारा कला निर्देशिका  श्रीमती रेणु पाण्डे  के  मार्गदर्शन  में एक माह पूर्व  तैयार की गई   ।   नारी  को  “शक्तिरूपा”  के  रूप में  प्रदर्शित किया गया है ।  स्वास्थ्य राज्य मंत्री शरद जैन, महापौर प्रभात साहू, सांसद राकेश सिंह, विधायक अंचल सोनकर, श्रीमती प्रतिभा सिंह,  श्रीमती नंदिनी मरावी,अशोक रोहाणी, सुशील तिवारी इंदू, पूर्व मंत्री अजय विश्नाई, पूर्व मंत्री श्री हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू,मनोनीत विधायक श्रीमती लारेन बी. लोबो,  जबलपुर विकास प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष अनिल शर्मा, श्री विनोद गोंटिया, डॉ. विनोद मिश्रा, श्री आशीष दुबे,   सोनू बचवानी,  संभागायुक्त श्री  दीपक खाण्डेकर , पुलिस महानिरीक्षक डी. श्रीनिवास राव,आई जी श्रीमती प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव,