संदेश

Lado-Abhiyan लाडो-अभियान पर केन्द्रत कार्टून्स

चित्र
मध्य-प्रदेश महिला सशक्तिकरण विभाग द्वारा बालविवाह की रोकथाम के लिए 2013 से लाडो-अभियान का  संचालं किया जा रहा है . इस हेतु जबलपुर के  वरिष्ठ कार्टूनिष्ट श्री राजेश कुमार दुबे से बाल-भवन जबलपुर द्वारा  बेहद प्रभावी कार्टून्स प्रचार सामग्री के रूप में  विकसित कराए गए हैं जिनमें से एक कार्टून का प्रयोग प्रदेश स्तर पर जारी विज्ञापन में भी किया गया है .  

मध्यप्रदेश का लाड़ो अभियान : बालविवाह रोकने उठाया सटीक कदम

चित्र
मध्यप्रदेश शासन के महिला सशक्तिकरण विभाग ने 2013 से    लाडो अभियान चलाकर बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम   2006   को प्रभावी बनाने जो कदम उठाए उससे इस दिशा में अभियान के द्वितीय चरण अर्थात   लाडो अभियान   2015   के प्रभावी असर दिखाई डे रहे हैं . लाडो-अभियान एक मिशन मोड में चलाया जाने वाला कार्यक्रम है . इस कार्यक्रम की प्रणेता महिला सशक्तिकरण संचालनालय की आयुक्त  श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव का स्वप्न है  कि महिलाओं एवं बच्चों सशक्तिकरण के लिए सर्वांगीण पहल होनी चाहिए . आम जनता को यह महसूस हो कि  सामाजिक बदलाव लाने के लिए   सरकार के साथ साथ आम नागरिक की ज़िम्मेदारी भी है . इस हेतु योजनाएं अथवा कार्यक्रमों का जनजन तक पहुँचना आवश्यक होता है .. इसी क्रम में  महिला सशक्तिकरण संचालनालय की आयुक्त  श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव  की सोच लीक से हटकर नज़र आ रही है . उनकी सोच से  स्वागतम लक्ष्मी ,   लाडो-अभियान   ,   शौर्यादल  जैसे  कार्यक्रम  समाज के सामने आए हैं जो महिलाओं एवं बच्चों के समग्र कल्याण  के लिए सामाजिक पहल की  दूरगामी आइडियोलोजी सूत्रपात करने में सक्षम हैं .  मध्य-प्रदेश का लाडो अभियान   201

ग्रीष्मकालीन शिविर के लिए पंजीयन शुरू हुआ

चित्र
प्रदर्शनकारी व सृजनात्मक कलाओं में दक्ष बनेंगे बच्चे ग्रीष्मकालीन शिविर के लिए पंजीयन शुरू हुआ जबलपुर 23 मार्च 2015             अपने बच्चे को प्रदर्शनकारी व सृजनात्मक कलाओं में दक्ष बनाने तथा उसमें खेल - कूद एवं विज्ञान के प्रति दृष्टिकोण का विकास सुनिश्चित करने के इच्छुक अभिभावक संभागीय बाल भवन में सम्पर्क कर सकते हैं। बाल भवन केसरवानी कालेज के आगे , छोटी मस्जिद के सामने स्थित है और यहां प्रात : 10.30 बजे से शाम 5 बजे तक सम्पर्क किया जा सकता है। बाल भवन में 5 + से 16 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों ( बालिकाओं के लिए आयु सीमा 18 वर्ष ) को प्रशिक्षण दिया जाता है।           संचालक बाल भवन श्री गिरीश बिल्लोरे ने बताया कि बाल भवन जबलपुर द्वारा प्रदर्शनकारी एवं सृजनात्मक कलाओं तथा खेल - कूद आदि के लिए ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण कार्यक्रमों हेतु पंजीयन आरंभ कर दिए गए हैं। अपने बच्चों को इन प्रशिक्षणों का लाभ दिलाने के इच्छुक अभिभावक बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र , दो फोटोग्राफ , घर के पते के प्रमाण के रूप में आधार कार्ड / राशन कार्ड / ड्रायविंग लायसेंस / वोटर आईड

बाल-भवन जबलपुर एक बहुद्देशीय केंद्र

चित्र
  बच्चों में प्रदर्शनकारी रूपंकर एवं ललित कलाओं के विकास   , विज्ञान के प्रति दृष्टिकोण एवं खेल के लिए बच्चों की अभिरुचि के विकास के लिए संभागीय बाल-भवन एक बहुद्देशीय केंद्र के रूप में वर्ष 2007 से गढ़ा फाटक , मुख्यमार्ग केशरवानी महाविद्यालय के आगे संचालित है । उद्देश्य : - इन प्रशिक्षणों का उद्देश्य यह   है   बच्चों में विषय का ज्ञान , नया नजरिया एवं प्रभावशाली अभिव्यक्ति सम्पुष्ट हो सके   ताकि उनका सर्वांगीण विकास हो सके। उक्त उद्देश्यों की पूर्ति हेतु बालभवन जबलपुर में बच्चो के लिए निम्नानुसार प्रशिक्षणसत्र   5+ से 16 वर्ष तक के बच्चों के लिए चलाए जाते हैं 1. पूर्णकालिक प्रशिक्षण 2. अल्पकालिक प्रशिक्षण 1. पूर्णकालिक प्रशिक्षण : बालभवन जबलपुर   में नियमित रूप से बच्चों को छ: तरह के पूर्णकालिक प्रशिक्षण दिये जाते हैं , जो प्रत्येक दिन दो-दो घंटे के तीन सत्रों में चलता है। बच्चे अपनी इच्छानुसार किसी भी विधा में किसी भी समय आकर प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। संबंधित क्षेत्र के योग्य एवं अनुभवी प्रशिक्षकों द्वारा यह प्रशिक्षण दिया जाता है । प्रशिक्षण निम्न अनुस

राजशेखर समारोह में बालभवन जबलपुर की श्रीमती रेणु पाण्डे पुरस्कृत

चित्र

"Balbhavan Jabalpur के खाते में एक और बालश्री एवार्ड जोड़ा शुभम ने "

चित्र
 आयुक्त श्रीयुत खाण्डेकर जी के साथ शुभम ‪ # ‎ शुभमराज _ अहिरवार अभावों से जूझता किशोर 11 वीं का छात्र , पिता सब्जी का ठेला लेकर फेरी लगाते हैं बढ़ते बच्चों के सपने पूरे करने एवं परिवार के भरण पोषण के लिए ये परिस्थियाँ अनुकूल कदापि नहीं मानी जा सकतीं निम्न आय वर्ग के जगदीश अहिरवार का बेटा एक डूबा हुआ कलाकार अपने सुनहरे कल के स्वागत के लिए खुद को तैयार करने के लिए तत्पर........ उसके बनाए चित्रों में मौलिकता साफ साफ झलकती है . श्रीमती रेणु पाण्डे   बालश्री एवार्ड   वर्ष 2013 के लिए शुभमराज  लगातार अथक परिश्रम कर देश भर से आए बच्चों में अपना अधिकार साबित कर ही दिया । शुभम की इस उपलब्धि के पीछे श्रीमती रेणु पाण्डे , कला-अनुदेशिका  की भूमिका सर्वोपरि है । साथ ही यह कहना सही ही होगा कि अभाव किसी भी तरह से चमक को चुनौती दे ही नहीं सकते । शुभम पर विस्तृत आलेख शीघ्र .............. प्रतीक्षा कीजिये ....