संदेश

“राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान चयन शिविर में बाल भवन जबलपुर का 25 सदस्यीय दल

             जबलपुर / राष्ट्रीय बाल भवन  नयी दिल्ली (मानव संससाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार) द्वारा प्रतिवर्ष राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान आयोजित किया जाता है। इसी क्रम में संभागीय बाल भवन जबलपुर में संभागीय स्तर पर आयोजित अभिनय नृत्य , गायन , वादन एवं चित्रकला मूर्तिकला , हस्तकला के साथ ही वैज्ञानिक नवीनीकरण  सृजनात्मक लेखन  आदि की प्रतियोगिता में बाल कलाकारों का 25 सदस्यीय दल दिनांक 30.10.2015 को भोपाल जवाहर बाल भवन में आयोजित राज्य स्तरीय बाल श्री सम्मान प्रतियोगिता में सम्मलित होने  रवाना हो रहा है । दल में  बाल कलाकार कु. आस्था गुप्ता , यशी पचौरी ,  अभय सोंधिया , सुनीता केवट , मनु कौशल , इशिता विश्वकर्मा , लक्षिता शुक्ला , श्रेया खंडेलवाल , नीति शर्मा , सचिन जायसवाल , श्रेया ठाकुर , सृष्ठी गुप्ता अपूर्वा गुप्ता , पूर्वा शर्मा ,  ब्योम गर्ग , अक्षया  जैन , आकाश कोहली , प्रवीण उददे , माया पटेल , सोम्य नागवंशी शामिल हैं .          संभागीय बाल भवन  के संभागीय उपसंचालक श्रीमति मनीषा लुम्बा ने बताया कि राष्ट्रीय बाल-भवन से प्राप्त नवीन निर्देशानुसार इस वर्ष जबलपुर संभाग के सभी जिल

समझो भारत समझो : अपूर्वा गुप्ता की मुहिम

चित्र
बालभवन जबलपुर   की   ‪ # ‎ अपूर्वा   के अपने सपने हैं अपनी सोच है मौलिक चिंतन है तलाश की जिद्द है उसमें .  मुझे नहीं मालूम कि क्या क्या और कितना सोचना चाहिए बच्चों को पर हाँ इतना ज़रूर जानता हूँ कि अपूर्वा की तरह थोड़ा थोड़ा न केवल बच्चों को वरन मुझे भी सोचना ही होगा . अपूर्वा ने बच्चों के साथ मिलकर आज दो अक्टूबर 2015 को एक प्लान बनाया . अपना प्लान पूरा होता देख माँ और चाचा की मदद से अपूर्वा घर के नज़दीक वाले  यादव कॉलोनी चौक पर साथियों के साथ जा पहुँची ..  भीड़ आती जाती रही कुछ देखते कुछ न देखते अपने गंतव्य को आ-जा रहे थे . सबको छोटी छोटी दफ्तियों पर लिखे सन्देश देने बेताब बच्चों को देख कुछ लोगों का मन अधिक भावविभोर हो गया तो कुछ की नज़र में सामान्य सा दृश्य था मेरे दृष्टिकोण से नन्हे हाथों से चाँद-सितारे छोने की कोशिश जो सर्वदा सफल ही होती है .       अपूर्वा के साथ अनन्या, स्नेहा अयेशा, अपूर्व, अंशुल, सारांश, अभिषेक के दिमाग में जो भी कुछ जारी है ... जारी रखना होगा .. देश को इन्हीं नन्ही-मुन्नी कोशिशों से संबल मिलेगा . आइये इन सुनहरी नवकिरणों की सराहना करें उनके कहे को समझ कर .

बालभवन में कराते प्रशिक्षण हेतु प्रवेश प्रारम्भ

चित्र
विगत सत्र में संभागीय बाल भवन जबलपुर द्वारा निर्भया  दिवस  दिनांक  16 दिसंबर 2014 से प्रारम्भ   मार्शल आर्ट प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन   31  दिसंबर  2014 को बाल भवन परिसर में श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ,  आईपीएस ,  आईजी-महिला सेल , जबलपुर के मुख्यआतिथ्य में सम्पन्न हुआ था  ।                      इस कार्यशाला में 65 बालक बालिकाओं ने प्रशिक्षण-प्राप्त किया  गया था   प्रशिक्षक श्री नरेन्द्र गुप्ता  एवं श्री  सपन धर गुप्ता को शाल-श्रीफल से श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ,  आईपीएस ,  आईजी-महिला सेल , जबलपुर द्वारा सम्मानित किया गया  । इस मौके पर अपने उद्बोधन में श्रीमती प्रज्ञा रिचा श्रीवास्तव ने बच्चों की भूरि भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि जो बच्चों ने मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण प्राप्त किया हैं वो किसी भी स्थिति में जीवन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है  खासकर तब और आवश्यक है जब कि सामाजिक परिस्थितियाँ सामान्य नहीं हैं । किसी को भी यह अधिकार नहीं है कि किसी अन्य व्यक्ति खासकर बालिकाओं ,   बच्चों  ,  महिलाओं  ,  के विरुद्ध हिंसक हो । बच्चे देश का  भविष्य हैं हमारी कोशिशें ये होनी

“अर्धनारीश्वर ही महिला सशक्तिकरण का आध्यात्मिक प्रमाण है : दक्षिणा वैद्यनाथन ”

चित्र
                                          संभागीय  बालभवन के बच्चों के लिए एक अदभूत रोमांचित करा देने वाला अनुभव  था जब अंतराष्ट्रीय ख्यातिलब्ध भरतनाट्यम की नृत्यांगना सुश्री दक्षिणा वैद्यनाथन उनके बीच बालभवन में आईं तथा उन्हौने भरतनाट्यम की बारीकियों से बच्चों को परिचित कराया ।                   स्पिक-मैके , जबलपुर चैप्टर के सौजन्य से बाल भवन जबलपुर में अंतराष्ट्रीय भरतनाट्यम नृत्यांगना सुश्री दक्षिणा वैद्यनाथन उपस्थित हुईं । जिन्हौने  भारतीय सांस्कृतिक आध्यात्मिक शिव के अर्धनारीश्वर स्वरूप का विश्लेषण सरलता से करते हुए  नृत्यांगना सुश्री दक्षिणा वैद्यनाथन ने कहा कि- “सम्पूर्ण ब्रह्मांड में अर्धनारीश्वर की व्याख्या कराते हुए महिला सशक्तिकरण की अवधारणा को स्पष्ट किया ” । विशिष्ठ अतिथि श्री इरफान “झांस्वी” की उपस्थिती आयोजित कार्यक्रम के शुभारंभ में अतिथिकलाकार दक्षिणा ने  नटराज एवं गणेश पूजन किया । अतिथि सम्मान के उपरांत मंचीय प्रस्तुति में सुश्री दक्षिणा ने अर्धनारीश्वर स्वरूप पर केन्द्रित नृत्य प्रस्तुत किया । तदुपरान्त बालभवन के बच्चों के साथ भरतनाट्यम की बारीकियों की जान

सुश्री दक्षिणा वैद्यनाथन बालभवन जबलपुर

चित्र
Mother Rama Vaidynathan  Dakshina Vaidyanathan is passion for dance personfied, She is a young and talented dancer who comes from a family of eminent Bharatanatyam dancers. She has undergone rigorous training at Ganesa Natyalaya under the able tutelage of her Grand Mother Guru Saroja Vaidyanathan and her mother Rama Vaidyanathan. From the tender age of 10 Dakshina has been accompanying her Grand Mother and her Mother for various performance tours in India and abroad. Dakshina teaches Bharatanatyam and has choreograped several Dance productions at Ganesa Natyalaya. She has conceived and directed numerous group as well as solo productions.Dakshina has a style that amalgamates the delicacies of Bharatnatyam with the Intricacies of modern day issues.She belives in the power of dance for spreading awareness towards social issues. Dakshina conducts workshops and demonstrations,travels widely within the country through Spicmacay and is an active performer with Soorya. Dakshina has

Madhya Pradesh CM said Initiative for upliftment of destitute girls laudable Old News

Jabalpur:  Chief Minister Shri Shivraj Singh Chouhan has said that initiative for upliftment of destitute girls in Jabalpur district is laudable. This will add a new link in the series of state government’s efforts in the interest of girls. Shri Chouhan was addressing “Indradhanush-Aao Rang Bikheren” programme at Jabalpur today. He said that the people who have come forward to take responsibility of destitute and girls doing menial jobs for survival are praiseworthy. The Chief Minister said that through joint efforts, government and society can move forward the work to promote girls. He hoped that more people draw inspiration from people having taken responsibility of girls under Indradhanush programme as a result of which such girls’ future will become pleasant. Shri Chouhan also referred to state government’s efforts for improving girls’ status in society. He said that it is vital to educate and promote girls. The Chief Minister said that the state government has implemente

बालगृह के निराश्रित भाइयों को मिला बालभवन की बहनों का स्नेह

चित्र
 महिला सशक्तिकरण अतंर्गत संचालित शासकीय बाल गृह , जबलपुर में श्रीमति मनीषा लुम्बा , संभागीय उपसंचालक के मार्गदर्शन एवं समाज सेवी श्री नितिन अग्रवाल के आतिथ्य में बाल गृह के बच्चों एवं बाल भवन के बच्चों द्वारा जन्मदिवस एवं  रक्षाबंधन कार्यक्रम मनाया गया । बाल भवन की बालिकाओं ने बड़े मनोयोग से  शासकीय बाल गृह , जबलपुर के निराश्रित बालकों को बाल भवन जबलपुर की छात्राओं द्वारा हस्तनिर्मित राखी बांधी गई । इसी दौरान आज बाल गृह के बच्चों क्रमश: ललित , आकाश कोहली , राकेश , मेहरबान एवं अमर का जन्मदिन भी मनाया गया । बच्चों के द्वारा केक काटकर बर्थडे मनाया गया । बाल भवन की छात्राओं द्वारा कार्यक्रम में बच्चों के लिए बर्थडे गीत प्रस्तुत किए गए। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य बाल गृह के निराश्रित बच्चों के साथ रक्षाबंधन मनाकर उन्हें उनके जीवन के  रिश्तों  की कमी पूर्ण करने का एक प्रयास करते हुए उनको सामान्य बालसुलभ जीवन से जोड़ा जाना है . ।      कार्यक्रम में बाल भवन की ओर से आस्था अग्रहरि , साध्वी विरहा , शिफाली सुहाने , श्रुति जैन , प्रिया सौंधिया , प्रांजल जैन , मनीषा तिवारी , यषी पचौरी , ता