संदेश

बाल रंगकर्म की बुनियाद मज़बूत करता नाट्यलोक : श्रीमती आशालता बिल्लोरे

चित्र
              2008   के बाद नाट्य लोक ने 09 जून 2019 को जानकी रमन कालेज जबलपुर में  एक बार फिर रानी अवंती बाई नाटक का प्रदर्शन  किया उसकी स्क्रिप्ट लिखी थी द्वारकेश्वर द्वारका गुप्त द्वारा । रानी अवंती बाई के बलिदान की इस कहानी को इस रोचक ढंग से लिखा और निर्देशित किया गया था नाटक के रूप में संजय गर्ग ने कि उस बलिदान को देखकर आंखें भर आना स्वभाविक सा हो गया था वैसे संजय गर्ग आदतन अपने नाटकों में ऐसा कुछ कर देते हैं जिससे की आंखें भर आना स्वाभाविक है । नाटक जो नाट्य लोक द्वारा तैयार कराए जाते हैं उनमें संगीत का लाइव सम्मिश्रण बेहद प्रभावी बना देता है इस नाटक में तो गोंडवाना की रियासत के उस दृश्य को भी लाया गया जिसमें लोक नृत्य का समावेश था ।   जिससे नाटक अत्यधिक प्रभावशाली बन पड़ा था महिमा गुप्ता की सोच उम्मीद से ज्यादा प्रभावी नजर आ रही है । डॉक्टर शिप्रा   सुल्लेरे   ने न केवल म्यूजिकपिट के जरिए लाइव म्यूजिक मिश्रित किया बल्कि विकल्प के तौर पर मुस्कान सोनी   को भी प्रभावी विकल्प के रूप में सामने ला खड़ा किया है अन्य गाय कलाकार थे- सजल सोनी , नयन सोनी , श्रेया ठाकुर , मानस

फिलाटेली विरासत को संजोए रखने की कोशिश : डॉ धीरेंद्र पाठक

【 * मुस्कान किरार एवं बाल श्री विजेता बच्चों पर डाक तार विभाग के सहयोग से बाल भवन जारी करेगा विशेष डाक टिकट* 】 फिलाटेली अर्थात पुरानी स्टैंप का एकत्रीकरण का नाम इतिहास को और विरासत को समाज के रखने जैसा है । विश्व में ऐतिहासिक महत्व की वस्तुओं का संग्रह जैसे कॉइन कलेक्शन और डाक टिकट का संग्रह करने की रुचि कई लोगों में है । पुराने नोटों का भी ही किया जाता है आने वाले समय में जिनका उपयोग ऐतिहासिक दस्तावेज के रूप में प्रमाणिक के तौर पर किया जा सकता है । मैं बेहद प्रसन्न हूं कि बाल भवन के साथ मिलकर भारतीय डाक विभाग ने यह महत्वपूर्ण कार्य अपने हाथ में लिया है । विश्व पर्यावरण की परिपेक्ष में भी कई डाक टिकटों का जारी होना पाया गया है मैं सभी बच्चों को ईद की अग्रिम शुभकामनाएं और विश्व पर्यावरण दिवस की बधाइयां देता हूं...! इस आशय के विचार संभागीय बाल भवन जबलपुर में भारतीय पोस्टल विभाग द्वारा फिलाटेली एवं भारत एवं विश्व का पोस्टल इतिहास , सामान्य एवं विशेष डाक टिकिटों की जानकारी हेतु दिनांक 4 जून 2019 को आयोजित एक कार्यक्रम में व्यक्त किये । कार्यक्रम की महत्व को रेखांकित करते हुए मार्केट

मध्य प्रदेश के 09 बच्चों को मिलेगा बालश्री 2016 सम्मान

चित्र
राष्ट्रीय बाल भवन नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2016 के लिए बाल श्री पुरस्कारों की घोषणा कर दी है जिसमें देशभर के 80 बच्चों को सम्मानित किया जावेगा ।   सूची में मध्य प्रदेश से 9 बच्चों को शामिल किया गया है ।     बाल भवन जबलपुर की राजश्री चौधुरी   को रचनात्मक वैज्ञानिक इनोवेशन एवं मास्टर अंकुर विश्वकर्मा को मूर्तिकला के लिए सम्मानित किया जावेगा । जबलपुर बाल भवन से संबद्ध मंडला जिले की कुमारी अजीता रूपेश कोष्टा को अभिनय एवं संवाद ,  नरसिंहपुर जिले की कुमारी सपना पटेल को सृजनात्मक लेखन के लिए बाल से सम्मान प्राप्त होगा । नेत्र दिव्यांग कुमारी तान्या शर्मा को गायन के लिए मास्टर हर्ष कुमार जैन को सृजनात्मक इनोवेशन के लिए मनोध्यान श्रीपाद वैद्य को भी इसी विधा में सम्मानित किया जाएगा । भोपाल के पारस   अग्रवाल सृजनात्मक लेखन तथा सागर की विधि अहिरवार को सृजनात्मक कला के लिए बालश्री सम्मान से सम्मानित किया जावेगा।     बालश्री वर्ष 2015 के लिए जबलपुर से सम्मानित कुमारी श्रेया खंडेलवाल संवाद एवं अभिनय तथा मास्टर अभय सौंधिया को भी वर्ष 2019 में आयोजित अलंकरण समारोह में   बालश्री अलंकरण दिए जाएंगे

बाल भवन को सुविधा संपन्न बनाया जाएगा : विनय सक्सेना

चित्र
                                                                                           जबलपुर 01/01/2018 नव वर्ष स्वागत हेतु सांस्कृतिक कार्यक्रम के अंतर्गत आज संभागीय बाल भवन में त्तर उमध्य विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री विनय सक्सेना ने मुख्य आतिथि के रूप में कहा कि वे संभागीय बाल भवन के लिए हरसंभव किसी भी तरह की कमी ना हो हम ऐसे प्रयास करेंगे बाल भवन उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता में अब शामिल हो गया है .   उन्होंने संचालक बाल भवन को निर्देशित किया कि बाल भवन के लिए अपेक्षित सामग्री एवं अन्य आवश्यकताओं का भी आँकलन कर विधिवत प्रस्ताव उन्हें सौंपा जाए ।अब भविष्य में मैं बच्चों से मिलने एवं उनकी कला साधना से परिचित होने अनौपचारिक रूप से आता रहूँगा . बच्चों   को सुविधा से वंचित न रखना सरकार   सर्वोच्च प्राथमिकता है . संस्था की वार्षिक उपलब्धियों का विवरण संचालक संभागीय बालभवन गिरीश बिल्लोरे द्वारा प्रस्तुत किया गया .   बाल भवन में इस अवसर पर निश्चय संस्था द्वारा सभा का क्षेत्र 40 कुर्सियां श्री आदित्य अग्रवाल ने भेंट स्वरूप प्रदान की जो श्री विनय सक्सेना के हाथों संच

उन्नति तिवारी का सपना कलेक्टर बनने का है

चित्र
ग्राम बरौदा तहसील पाटन के निवासी पुरोहित का कार्य करने वाले पंडित गौरी शंकर तिवारी एवम श्रीमती शोभना तिवारी की 15 वर्षीय बेटी उन्नति तिवारी ने गायत्री परिवार जबलपुर के प्रतिष्ठित वाइस ऑफ प्रज्ञा प्रतियोगिता 2018  बी ग्रुप में  पहला स्थान हासिल किया है, जिसमें गायत्री परिवार की ओर से उसे स्मृति चिन्ह, प्रमाण पत्र, एक लैपटॉप, सहित लगभग 30 हज़ार रुपयों की सामग्रियों से भरे गिफ़्ट-हैम्पर  प्रदान किये । वाइस ऑफ प्रज्ञा 2017 में द्वितीय स्थान अर्जित किया था । केंद्रीय विद्यालय सी एम एम में कक्षा - 9वीं की छात्रा है तथा आई ए एस बनना चाहती है । संगीत के क्षेत्र में सूफ़ी गायक के रूप में नाम कमाना चाहतीं हैं । इतना ही नहीं उन्नति कबड्डी की राष्ट्रीय टीम में जबलपुर का प्रतिनिधित्व करने वाली बहुमुखी प्रतिभा की धनी उन्नति तिवारी बालश्री सम्मान के लिए प्रादेशिक स्तर तक पहुंची थीं Voice of pragya we 2018 में प्रथम पुरस्कार पाकर उन्नति चेहरे पर मुस्कान के बिखेरते हुए कहा कि यह सम्मान सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि उन सभी को मिला है जो जिन्होंने मेरे लिए मेहनत की व मेरी तैयार किया । माता पिता गुरु

उपलब्धियों से भरे ये दो माह सितम्बर से अक्टूबर 2018

चित्र
कला, नृत्य एवं आध्यात्म की त्रिवेणी बनारस के घाटों पर इन दिनों चर्चा का विषय है- एक स्वयंसेवी संस्था द्वारा बनारस में 800 दिनों के लिए घाट संध्या कार्यक्रम का आयोजन तय किया है, जिसमें देश के महान कलाकार सुनाम धन्य प्रतिष्ठित कलाकार प्रस्तुति देते हैं . इस क्रम में बालभवन के दो बालकलाकार को आमत्रण मिला . हुआ यूँ कि  यूट्यूब मौजूद सन्मार्ग एवं संकल्प परांजपे के वीडियो से प्रभावित होकर आयोजन समिति द्वारा इन बाल कलाकारों को आमंत्रित किया तथा इन्हें 30 सितंबर एवं 1 अक्टूबर 2018 को प्रस्तुति देने का अवसर दिया गया. यह प्रस्तुतियां आयोजन के 605वें दिन हुई और 606वें दिन बनारस के अस्सी घाट पर संपन्न हुई. बाल भवन जबलपुर के दो बाल कलाकारों ने काशी के घाट पर होने वाली घाट संध्या में अपना कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाना जबलपुर के लिए गौरव की बात है. गुरु मोती शिवहरे के मार्गदर्शन में शिक्षा प्राप्त कर रहे कथक नृत्य साधक संकल्प और सन्मार्ग परांजपे के पिता संदीप परांजपे और माता श्रीमती किरण परांजपे ने इन दोनों बच्चों को कथक साधना में पारंगत करने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है. संकल्प परांजपे एवं स

संभागीय बाल-भवन 2018 14 सितम्बर से 2 अक्टूबर गतिविधियाँ

हिन्दी दिवस पर संगोष्ठी संभागीय बालभवन एवं नेहरू युवा केन्द्र भारत सरकार द्वारा संयुक्त रूप से हिंदी दिवस का आयोजन दिनाँक 14 सितंबर 2018 को बालभवन जबलपुर में आयोजित किया गया । इस अवसर पर *हिंदी में बाल साहित्य लेखन* विषय पर एक विचार गोष्ठी अतिथि माननीय मंत्री श्रीयुत शरद जैन जी कहां थी बच्चों के समग्र विकास के लिए मातृभाषा एवं भारतीय भाषाओं की विकास की आवश्यकता है सिर्फ रोटी की भाषा नहीं है हिंदी बल्कि संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास की भाषा है हिंदी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं क्षेत्रीय भाषाओं के प्रति हमारा सम्मान और निष्ठा जरूरी है समाचार  होंगे कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रुप में पंडित सुशील शुक्ला सदस्य जिला योजना समिति एवं अध्यक्ष बाल भवन सलाहकार एवं सहयोग समिति शुभ अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि संपूर्ण विकास के लिए भाषा की शुद्धता की आवश्यकता को नकारा नहीं जा सकता अतः आवश्यक है कि हम सतत रूप से भाषाई विकास हिंदी के प्रति अपने स्नेह भाव को बनाए रखें श्री मनीष शर्मा जिला कार्यक्रम अधिकारी मैं समस्त भाषाओं के प्रति सम्मान के साथ साथ हिंदी भाषा के विकास तथा उसका त