वक्त का प्रवाह रोक वक्त ही उधार लें

आओ मीत लौट चलें  गीत को संवारने
अर्चना का वक्त है आ बतिया सुधार लें

कुछ अगर जो शेष है ,शेष जो विशेष है 
वक्त का प्रवाह रोक वक्त ही उधार लें।  

उधार लिए वक्त से ज़िंदगी सुधार लें
और  भूले बिसरों को आज हम पुकार लें

पंच  फैसले हमारी आदिम परिभाषा है
तरु तट चौपाल की पत्तियां बुहार दें।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मध्यप्रदेश के बाल भवनों मैं ऑनलाइन एडमिशन एवं प्रशिक्षण की व्यवस्था प्रारंभ

महिला बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित पोषण सभा में पहुंचे माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी

बालगीत