पोस्ट

जनवरी, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

MANENGE AB HAM NAHI

इमेज

ओडिसी नृत्यांगना पद्मश्री माधवी मुदगल की बालभवन में बाल साधकों से की मुलाक़ात

इमेज
         संभागीय बालभवन जबलपुर एवं स्पिक-मैके जबलपुर चैप्टर द्वारा आज बाल भवन के बच्चों से वरिष्ठ ओडिसी नृत्यांगना श्रीमती माधवी मुदगल  {नई दिल्ली } की एक मुलाक़ात कराई गई . श्रीमती मुदगल वर्ष 1990 में भारत सरकार के पद्मश्री सम्मान से सम्मानित हो चुकीं है. 4 अक्टूबर 1951 में जन्मीं माधवी जी यद्यपि ओडिसी नृत्यांगना हैं परन्तु वे भरतनाट्यम , कत्थक पर भी समान अधिकार रखतीं हैं . 66 वर्ष की आयु में भी ओडिसी तथा अन्य शास्त्रीय नृत्य की प्रशिक्षण वर्तमान में भी देने वाली श्रीमती माधवी ने बाल साधकों को भारत के अन्य शास्त्रीय नृत्यों के  अंतर को सरल शब्दों में बताया . कार्यक्रम के शुभारम्भ में छोटी बालिकाओं  भक्ति, शर्मिष्ठा एवं श्रद्धा दासगुप्ता नें अतिथि कलाकारों का स्वागत किया. तदुपरांत श्रीमती माधवी द्वारा अपनी सह-नृत्यांगना शलाखा राय के साथ भगवान जगन्नाथ लीला की प्रस्तुति दी प्रस्तुति में गायन मणि कुंतला भौमिक सहयोग किया जबकि सितार पर यार मोहम्मद एवं पखावज पर जितेन्द्र स्वाइं का वादन प्रभावकारी रहा . देर शाम तक चली चर्चा में बच्चों को ज्ञात कराया गया कि – अन्य शास्त्रीय नृत्यों की तरह

विवेकानंद विश्व प्रतिष्ठित भारत के प्रतिनिधि पुरुष : डा सलिल समाधिया

इमेज
        विवेकानंद ने भारत के निर्माता है  विश्व में प्रतिष्ठित भारत के प्रतिनिधि पुरुष हैं उनके जीवन से जब  भारत विवश था तब युग पुरुष विवेकानंद ने देश के लिए मार्ग प्रदर्शक का दायित्व निर्वहन किया . तदाशय के विचार युवा विचारक एवं योगाचार्य डा सलिल समाधिया ने संभागीय  बाल - भवन बिदामबाई कन्या विद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित  कार्यक्रम में व्यक्त किये . कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्जवलन , अतिथि सत्कार , से हुआ.   अपने अध्यक्षीय भाषण में श्रीमती मनीषा लुम्बा ने बालभवन, एवं बिदामबाई स्कूल के संयुक्त आयोजन की सराहना करते हुए प्रेरक विचार व्यक्त किये. इस अवसर पर श्री राकेश अमलाथे द्वारा जरूरतमंद बालक बाबुल को बालभवन आने के लिए बस पास तथा श्रीमती विजय लक्ष्मी अय्यर द्वारा रिकरिंग जमा खाते की पासबुक प्रदान की . श्रीमती अय्यर प्रतिमाह शिक्षा सहायता हेतु निश्चित राशि जमा करेंगी . साथ ही बालक बाबुल को सुश्री शैलजा द्वारा विशेष कोचिंग का दायित्व स्वीकारा . निबंध प्रतियोगिता में प्रथम स्नेहा केवट , द्वितीय शीतल सौंधिया, तृतीय पल्लवी गुप्ता, विशेष पुरस्कार खुशबू, ज्योति एव

“नुक्कड़-नाटक से प्रेरित होकर बच्चों, अतिथियों ने बालभवन परिसर को साफ़ किया ”

इमेज
संभागीय बाल-भवन महिला सशक्तिकरण  (म बा वि ) जबलपुर द्वारा स्वच्छता सर्वेक्षण अंतर्गत वातावरण निर्माण हेतु नुक्कड़ एवं संगीत कार्यक्रमों का आयोजन श्री रोहित कौशल अतिरिक्त आयुक्त नगर पालिक निगम जबलपुर के मुख्यातिथ्य में  बालभवन परिसर में हुआ. आयोजन में बालभवन के बालकलाकारों मुस्कान सोनी, सुश्री रंजना निषाद, वैशाली बरसैंया आयुष रजक, हर्ष सौंधिया, सूर्यभान सिंह ठाकुर “राम जी ”,  उन्नति तिवारी, श्रुति जैन, श्रेया ठाकुर, आदि ने डा शिप्रा सुल्लेरे के संगीत निर्देशन में बालभवन  जबलपुर द्वारा निर्मित स्वच्छता एलबम के गीतों की प्रस्तुति की गई. तदुपरांत बालभवन, की सहयोगी संस्था नाट्यलोक  द्वारा श्री दविंदर सिंह ग्रोवर , विनय शर्मा, रविन्द्र मुर्हार , जीतेन्द्र सिंह राणा, पराग तेलंग, एवं मनीषा तिवारी अभिनीत स्वच्छता पर केन्द्रित प्रेरक लघु-नाटक  नाटक का प्रदर्शन किया.  मुख्यअतिथि  कार्यक्रम में मुख्यअतिथि का सम्मान बुके देकर कुमारी,  श्रेया खंडेलवाल, ने तथा पेंटिंग भेंट कर  श्री मति विजय लक्ष्मी अय्यर, एवं मीना सोनी द्वारा किया गया . कार्यक्रम के आयोजन में श्री सोमनाथ सोनी, इन्द्र पांडे एवं श्र