Sunday, October 7, 2018

उपलब्धियों से भरे ये दो माह सितम्बर से अक्टूबर 2018

कला, नृत्य एवं आध्यात्म की त्रिवेणी बनारस के घाटों पर इन दिनों चर्चा का विषय है- एक स्वयंसेवी संस्था द्वारा बनारस में 800 दिनों के लिए घाट संध्या कार्यक्रम का आयोजन तय किया है, जिसमें देश के महान कलाकार सुनाम धन्य प्रतिष्ठित कलाकार प्रस्तुति देते हैं .
इस क्रम में बालभवन के दो बालकलाकार को आमत्रण मिला . हुआ यूँ कि  यूट्यूब मौजूद सन्मार्ग एवं संकल्प परांजपे के वीडियो से प्रभावित होकर आयोजन समिति द्वारा इन बाल कलाकारों को आमंत्रित किया तथा इन्हें 30 सितंबर एवं 1 अक्टूबर 2018 को प्रस्तुति देने का अवसर दिया गया. यह प्रस्तुतियां आयोजन के 605वें दिन हुई और 606वें दिन बनारस के अस्सी घाट पर संपन्न हुई. बाल भवन जबलपुर के दो बाल कलाकारों ने काशी के घाट पर होने वाली घाट संध्या में अपना कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाना जबलपुर के लिए गौरव की बात है.
गुरु मोती शिवहरे के मार्गदर्शन में शिक्षा प्राप्त कर रहे कथक नृत्य साधक संकल्प और सन्मार्ग परांजपे के पिता संदीप परांजपे और माता श्रीमती किरण परांजपे ने इन दोनों बच्चों को कथक साधना में पारंगत करने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है. संकल्प परांजपे एवं सन्मार्ग परांजपे संभागीय बाल भवन के सदस्य हैं. उनकी प्रतिभा को पद्मश्री नूपुर जैन ने बनारस के गंगा घाट पर सम्मानित किया.
मेरा एक स्वप्न है कि ये बच्चे देश में और देश के बाहर विदेशों {यूएसए, फ़्रांस, सिंगापुर अर्थात एशिया-यूरोप आदि में} अपनी प्रस्तुतियां दें. मेरे सपने अवश्य पूरे होंगे. 

Wednesday, October 3, 2018

संभागीय बाल-भवन 2018 14 सितम्बर से 2 अक्टूबर गतिविधियाँ



हिन्दी दिवस पर संगोष्ठी
संभागीय बालभवन एवं नेहरू युवा केन्द्र भारत सरकार द्वारा संयुक्त रूप से हिंदी दिवस का आयोजन दिनाँक 14 सितंबर 2018 को बालभवन जबलपुर में आयोजित किया गया । इस अवसर पर *हिंदी में बाल साहित्य लेखन* विषय पर एक विचार गोष्ठी अतिथि माननीय मंत्री श्रीयुत शरद जैन जी कहां थी बच्चों के समग्र विकास के लिए मातृभाषा एवं भारतीय भाषाओं की विकास की आवश्यकता है सिर्फ रोटी की भाषा नहीं है हिंदी बल्कि संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास की भाषा है हिंदी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं क्षेत्रीय भाषाओं के प्रति हमारा सम्मान और निष्ठा जरूरी है समाचार होंगे कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रुप में पंडित सुशील शुक्ला सदस्य जिला योजना समिति एवं अध्यक्ष बाल भवन सलाहकार एवं सहयोग समिति शुभ अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि संपूर्ण विकास के लिए भाषा की शुद्धता की आवश्यकता को नकारा नहीं जा सकता अतः आवश्यक है कि हम सतत रूप से भाषाई विकास हिंदी के प्रति अपने स्नेह भाव को बनाए रखें श्री मनीष शर्मा जिला कार्यक्रम अधिकारी मैं समस्त भाषाओं के प्रति सम्मान के साथ साथ हिंदी भाषा के विकास तथा उसका तकनीकी में समावेश का अवधान कर बच्चों को बताया कि हिंदी का विकास हमारी भावनाओं और संकल्प पर आधारित है हम अपने विकास के साथ-साथ अपनी मातृभाषा को भुला कर सबसे बड़ी गलती करेंगे . ।
आयोजन में नगर के वरिष्ट कवि श्री मोहन शशि, ने कहा कि बाल भवन एवं नेहरू युवा केंद्र का यह प्रयास निसंदेह अनुकरणीय है जो बच्चों के बीच इस तरह की गतिविधियां निरंतर आयोजित कर रहे हैं तथा सफल हो रहे हैं ऐसे प्रयास निरंतर जारी रहे । डॉक्टर संध्या जैन "श्रुति" ने कहा कि राज हिंदी भाषा ना केवल राजभाषा है बल्कि यह आत्मा की आवाज भी है जिसका विकास परिस्थितिवश उच्च गति पर नहीं पहुंच पाया जिस गति पर पहुंचाना चाहिए इसके लिए सतत प्रयासों को निरंतरता देनी आवश्यक है , इरफान झांस्वी भाषाई साहित्य और विकास के लिए हिंदी के प्रति एक सकारात्मक नजरिया जरूरी है
इस अवसर पर बाल साहित्यकारों कु. वैशाली बरसैंया, देवांशी जैन, उन्नति तिवारी, नूतन तिवारी प्रकृति राव आदि अपने-अपने विचार एवं कविताएं प्रस्तुत की उन्हें आयोजकों द्वारा पुरस्कार स्वरूप श्री मोहन शशि की कृति बेटे से बेटी भली भेंट की गई तथा अन्य पुरस्कार प्रदान किए गए ।
कार्यक्रम का संचालन कुमारी उन्नति तिवारी ने किया तथा आभार प्रदर्शन वरिष्ठ अनुदेशक श्रीमती रेनू पांडे द्वारा किया गया कार्यक्रम में अपनी अभिव्यक्ति देते हुए नेहरू युवा केंद्र के जिला समन्वयक श्री धीरज अग्रवाल ने नेहरू युवा केंद्र की गतिविधियों की चर्चा करते हुए 
7दिवसीय स्किल डेवलपमेंट ट्रेनिंग के संबंध में विस्तृत जानकारी दी इस अवसर पर श्री पंकज चौरसिया एवं हेमंत चंद्रावल ने अपने विचार व्यक्त किए । 
कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत श्री देवेंद्र यादव श्री सोमनाथ सोनी द्वारा किया गया कार्यक्रम के सफल आयोजन में श्री अतुल पांडे लेखा अधिकारी नेहरू युवा केंद्र का विशेष योगदान रहा ।

 *जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण का सफल आयोजन*

नेहरु युवा केन्द्र जबलपुर द्वारा संभागीय बालभवन के संयुक्त तत्वावधान में सात दिवसीय जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण का शुभारम्भ मध्यप्रदेश शासन के स्वास्थ्य शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) माननीय शरद जी जैन के करकमलों से दिनांक 14 सितंबर 2018 को हुआ हुआ । 
कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री सुशील शुक्ला जी ने की। 
श्री मनीष शर्मा जिला कार्यक्रम अधिकारी जबलपुर कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों के औपचारिक स्वागत-सत्कार एवं मां सरस्वती वंदना के साथ हुआ.
अपने उद्बोधन में मुख्य अतिथि श्री शरद जैन मंत्री मध्यप्रदेश शासन चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने कहा कि बच्चों के लिए आयोजित इस तरह की प्रशिक्षण कार्यक्रम अत्यंत महत्वपूर्ण एवं आवश्यक होते हैं . नेहरू युवा केंद्र इस दिशा में सदा ही उत्कृष्ट कार्य करने में सफल रहा है और मैं ह्रदय से कार्यक्रम की प्रशंसा करता हूं और उम्मीद करता हूं कि निकट भविष्य में नेहरू युवा केंद्र ऐसे कार्यक्रम सतत रूप से करते रहेंगे.
 जिला कार्यक्रम अधिकारी मनीष शर्मा ने कहा कि जीवन के कौशल को ज्ञान से परिपूर्ण किया जा सकता है इस दिशा में नेहरू युवा केंद्र ने जो कदम उठाए हैं यह सराहनीय है .
संचालक संभागीय बाल भवन जबलपुर श्री गिरीश बिल्लोरे ने कहा कि - हमेशा ही नेहरु युवा केंद्र के लिए आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराते रहने के लिए संकल्पबद्ध है बालभवन अंतर विभागीय समन्वय से आयोजित गतिविधियां किसी भी संस्थान को अत्यधिक सुविधा संपन्न बनाती हैं नेहरू युवा केंद्र जबलपुर के साथ हमारा यह प्रयोग योग दिवस से प्रारंभ हुआ है जो हमेशा जारी रहेगा और जब भी बाल भवन की जरूरत होगी तब बाल भवन ऐसे कार्यों के लिए नेहरू युवा केंद्र ही नहीं अन्य सभी संस्थानों को सहयोग करेगा. 
*इस अवसर पर डॉ संध्या जैन, ( शिक्षाविद साहित्यकार ) एवं वरिष्ठ पत्रकार लेखक , कवि श्री मोहन शशि तथा श्री पुनीत मरवाह भी मौजूद रहे ।*
7 दिवसीय इस प्रशिक्षण कार्यक्रम कार्यक्रम में व्यक्तित्व विकास शिक्षा, स्वास्थ्य उद्यमिता के साथ साथ विधि एवं मतदाता जागरूकता जैसे मुख्य विषयों को प्रमुख रूप से सम्मिलित किया गया है ।
श्री धीरेंद्र अग्रवाल द्वारा बताया गया कि संभागीय बाल भवन साथ प्रशिक्षण कार्यक्रम सफलतापूर्वक संचालित किया गया है । भविष्य में भी इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन नेहरू युवा केंद्र के तत्वावधान में किया जाता रहेगा श्री अग्रवाल ने यह भी बताया कि किशोरों को प्रशिक्षण के साथ-साथ शैक्षिक भ्रमण पर भी ले जाया गया है
इस क्रम में इस प्रशिक्षण सत्र में प्रतिभागियों को ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक महत्व के त्रिपुर सुंदरी मंदिर, रानी दुर्गावती संग्रहालय एवं भंवरताल पार्क जैन धर्म के प्राचीन मंदिर पिसनहारी की मढ़िया का भ्रमण कराया का भ्रमण भी कराया । 
सात  दिन के  इस प्रशिक्षण में अतुल पांडे जबलपुर इमरान खान उमरिया श्री पंकज चौरसिया मंडला एवम हेमंत चंदरोल मंडला इमरान डॉ अमिता जैन जिला चिकित्सालय जबलपुर श्रीमती पायल चौरसिया पोषण एवं मनोवैज्ञानिक जबलपुर डॉ नूपुर देशकर , डा दीप्ति पारे, आदि प्रशिक्षित ने प्रशिक्षण दिया ।
*दुर्व्यसनों से दूर रहकर स्वयं का विकास करे तरुणाई- जी इस टी कमिश्नर प्रमोद अग्रवाल*  नेहरू युवा केंद्र जबलपुर के लाइफ स्किल एजुकेशन ट्रेनिंग शिविर का समापन समारोह पर रिपोर्ट
नेहरू युवा केंद्र जबलपुर द्वारा संभागीय बालभवन में दिनांक 14 सितम्बर 2018 से चल रहे जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण का समापन जबलपुर सर्किल के जी एस  टी कमिश्नर श्री प्रमोद अग्रवाल जी °【भारतीय राजस्व सेवा 】  के मुख्यातिथ्य और महिला बाल विकास विभाग के संयुक्त संचालक श्री एल एन कंडवाल जी की   अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ. समापन समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप मे महिला एवं बाल विकास विभाग की उपसंचालक श्रीमती मनीषा लुम्बा जी उपस्थित रहीं. प्रशिक्षण के दौरान किशोर- किशोरियों को जीवन कौशल का महत्व और आवश्यकता, किशोरावस्था विकास और समस्याएं, दृष्टिकोण, दुविधाएं, मजबूती और कमजोरियां,किशोरावस्था में शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक परिवर्तन,पोषण एवं संतुलित भोजन, व्यक्तिगत एवं सामुदायिक स्वच्छता, स्वास्थ्य की अवधारणा, यौन संक्रमण एवं यौन रोग, एच आई वी एड्स,नशा और स्वास्थ्य,जेंडर एवं सेक्स, प्रजनन स्वास्थ्य,किशोरावस्था में अभिभावक और समाज की भूमिका, मतदाता जागरूकता अभियान, विचार सम्प्रेषण कला, उसका महत्व कौशल,मित्रता,समस्या की पहिचान और समाधान,सहयोग लेने की कला, और सकारात्मक सोच से संबंधित प्रशिक्षण दिया गया. इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री फ्लेगशिप योजनाओं बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ,स्वच्छ भारत मिशन,मिशन इंद्रधनुष, स्किल इण्डिया,डिजिटल इण्डिया आदि पर भी जानकारी दी गई। 
प्रतिभागियों को पुरस्कृत करते हुए मुख्य अतिथि श्री प्रमोद अग्रवाल ने युवाओं से दुर्व्यसन से दूर रहते हुए स्वयं के व्यक्तित्व का विकास करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि सत्यनिष्ठा और ईमानदारी ऐसे गुण है जो आपके जीवन के प्रत्येक पल में काम आवेंगे। सत्यनिष्ठ और कर्मठ व्यक्ति समाज में अलग पहिचाने जाते हैं। जिला युवा समन्वयक धीरज अग्रवाल ने नेहरू युवा केन्द्र संगठन के कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कौशल विकास प्रशिक्षण के मुख्य बिंदुओं को उदधृत किया ।
बाल भवन के संचालक गिरीश बिल्लोरे ने सम्भागीय बाल भवन को इस कार्यक्रम हेतु चुनने के लिए नेहरू युवा केन्द्र के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए प्रशिक्षण को बहुउपयोगी बताया। उप संचालक श्रीमती मनीषा लुम्बा ने अभिभावकों को किशोरों के लिए पोषक आहार के प्रति जागरूक रहने की सलाह दी।
अंत मे कार्यक्रम के अध्यक्ष श्री कंडवाल जी ने सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएं देते हुए भविष्य में स्वस्थ और श्रेष्ठ नागरिक बनने का आव्हान किया। शिविर में प्रशिक्षक के रूप में सहयोग प्रदान करने पर श्री पंकज चौरसिया, हेमन्त चंद्रोल, इमरान खान, डॉ नुपूर देशकर, डॉ दीप्ति पारे का सम्मान किया गया साथ ही व्यवस्था में उल्लेखनीय सहयोग के लिए खेल अनुदेशक श्री देवेंद्र यादवश्रीमती रेणु पांडेश्री सोमनाथ सोनी और श्रेष्ठ प्रतिभागियों वरुण यादवविदुषी शर्मा , मान्या केशरवानीसंस्कृति अग्रवालतरुण अहिरवारखुशबू रायइप्शिता राइन,अब्दुल रहमान,वन्दना ने अपने विचार व्यक्त फीडबैक दिया ।

संभागीय बालभवन जबलपुर की पारुल वाघ ने जबलपुर की एक संस्था गुंजन कला सदन द्वारा आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता में अपने वर्ग में प्रथम स्थान अर्जित किया है दिनांक 1 सितंबर 2018 को कुमारी पारुल वाघ को शहीद स्मारक रंगमंच जबलपुर में आयोजित स्वर्गीय पूरनचंद श्रीवास्तव के जन्मदिवस जिसे जबलपुर में बुंदेली दिवस के रुप में मनाया जाता है सम्मानित किया गया संभागीय बाल भवन द्वारा को अनवरत शुभकामनाएं|
संभागीय बाल भवन जबलपुर मैं श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बच्चों उमंग एवं उत्साह के साथ मनाया गया ।
कार्यक्रम का शुभारंभ श्रीकृष्ण भगवान के पूजन से किया गया । तदुपरांत श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं पर केंद्रित गीत एवम भजनो की प्रस्तुति मास्टर सजल सोनी,शाम्भवी पंड्या, इशिता, यशी, उन्नति, श्रुति, श्रेया, मानसी, हर्ष सौंधिया, सैरिना बर्नाड, एलिशा, राजवर्धन पटेल, याशिका , आरना, प्रत्युषा तिवारी, आलोक मौर्य, श्रद्धा एवम शर्मिष्ठा दासगुप्ता, संगीत समीर सराठे, विशेष शर्मा, द्वारा दी गई ।
इस अवसर पर प्रदर्शित चित्रांजली में सुनीता केवट, विदुषी शर्मा , अनुष्का शर्मा, चेतन साहू, दीपाली ठाकुर, सोनाली ठाकुर , शिवानी नामदेव, पारुल वाघ, मधु राय, अविनाश कश्यप, के चित्रों तथा बालिका नूतन श्रीवास्तव वेस्ट मेटेरियल से बनाए झूले का प्रदर्शन किया ।
पारुल वाघ द्वारा कथक नृत्य में *कालिया मर्दन कथा* की प्रस्तुति दी | मटकी फोड़ कार्यक्रम में 16 बच्चों क्रमशः तरुन, लकी, ओमकार, रोहन, हर्षित, निहाल, प्रिंस, साहिल, कृष्णा, वैभव, युवराज, महेश, वासु, यश, एवम चेतन ने पिरामिड बनाकर मटकी फोड़ी । आयोजन में संचालक सहित सभी कर्मचारी, एवम शिक्षक उपस्थित रहे |

 
*बालिकाओं पर केंद्रित बालसभा का प्रसारण 23 सितंबर को* आकाशवाणी जबलपुर द्वारा संभागीय बालभवन में तैयार *बालसभा* का प्रसारण दिनाँक 23 सितंबर 2018 को अपरान्ह 12:00 बजे से प्राथमिक चैनल पर किया गया  । आकाशवाणी द्वारा प्रति माह कम से कम 1 बालसभा बच्चों को लेकर तैयार एवम प्रसारित की जाती है

1 अक्टूबर 2018
डिफेंस अकाउंट कार्यालय द्वारा विशेष रूप से आमंत्रित हुए संभागीय बाल भवन जबलपुर के बच्चे
संभागीय बाल भवन जबलपुर के 6 बच्चे रक्षा लेखा कार्यालय के स्थापना दिवस के अवसर पर आमंत्रित किए गए जहां बच्चों ने गीत संगीत का गायन किया तथा संभागीय बाल भवन को गौरवान्वित किया दिनांक 1 अक्टूबर 2018 को प्रातः  10:00 बजे से आयोजित इस कार्यक्रम में सम्मिलित होने संभागीय बाल भवन जबलपुर के बच्चे बाल भवन परिसर में एकत्र हुए जहां से बच्चों को रक्षा लेखा विभाग द्वारा अपने संसाधन से ले जाया गया प्रत्येक बच्चे को प्रशस्ति पत्र एवं मोमेंटो तथा लंच की व्यवस्था आयोजक संस्था द्वारा की गई आयोजक संस्था के सचिव ने डॉक्टर शिप्रा के निर्देशन में आयोजित इस संगीत प्रस्तुति की सराहना करते हुए बाल भवन को उत्कृष्ट सांस्कृतिक केंद्र बताया ।
2 अक्टूबर 2018
त्रिवेणी परिषद संस्था में बालकलाकारों ने मन मोहा
स्थानीय त्रिवेणी परिषद संस्था द्वारा 2 अक्टूबर 2018 को दोपहर 2:00 बजे से संभागीय बाल भवन के बाल कलाकारों को आमंत्रित किया गया ।
बच्चों द्वारा उक्त कार्यक्रम में महात्मा गांधी के प्रिय भजनों के अतिरिक्त भजनों की प्रस्तुति दी ।
त्रिवेणी परिषद द्वारा महात्मा गांधी की 150वीं जन्म तिथि के अवसर पर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था जिसमें प्रातः 11:00 बजे से आयोजित महात्मा गांधी की समकालीन मातृशक्ति विषय पर केंद्रित पोस्ट कला प्रदर्शनी में संभागीय बाल भवन के है  11 बच्चों ने भाग लिया इस कार्यक्रम के दिवस पूर्व 30 सितंबर 2018 को आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता में कुमारी पारुल वाघ को पुरस्कार प्राप्त हुआ है।



नगर निगम जबलपुर से
 आदित्य ठाकुर हुए पुरस्कृत
दिनांक 2 अक्टूबर को आयोजित कार्यक्रम में संभागीय बाल भवन के बाल कलाकार मास्टर आदित्य को नगर निगम जबलपुर द्वारा चित्रकला के लिए प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ ।

 बनारस की घाट-संध्या
                                  शामिल हुए बाल भवन जबलपुर  के दो बाल कलाकारकला, नृत्य एवम अध्यात्म की त्रिवेणी बनारस के घाटों पर इन दिनों चर्चा का विषय है 605 वें हुई और 606वें दिन बाल भवन जबलपुर के दो बाल कलाकारों ने काशी के घाट पर होने वाली घाट संध्या में अपना कार्यक्रम प्रस्तुत किया । ज्योति गुरु श्री मोती शिवहरे के मार्गदर्शन में शिक्षा प्राप्त कर रहे कथक नृत्य साधक संकल्प और सन्मार्ग परांजपे के पिता श्री संदीप परांजपे और माता श्रीमती किरण परांजपे ने इन दोनों बच्चों को कथक साधना में पारंगत करने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है । संकल्प परांजपे एवं सन्मार्ग परांजपे संभागीय बाल भवन के सदस्य हैं । उनकी प्रतिभा को पद्मश्री नूपुर जैन में बनारस के गंगा घाट पर सम्मानित किया ।


Sunday, September 23, 2018

Daughters Day

#Daughters_Day
मेरे कांधे पर जिस बेटी का सिर है वह है Shivani Billore बेटियों पर गर्व करना यह सारी बेटियां अब काम कर रही हैं मुझे गर्व है कि मेरी बड़ी बेटी शिवानी अगले दो-तीन दिनों में कंपनी की ओर से पुनः एक बार विदेश यात्रा पर होगी इस बार शिवानी जा रही है बेल्जियम के ब्रुसेल्स शहर में जो बेल्जियम की राजधानी है बीच में उसे उसे दुबई भी जाना था किंतु कंपनी की जो भी परिस्थिति रही हो शिवानी Ey में सीनियर एसोसिएट के पद पर पदस्थ है।

बहुत कम वजन था जन्म के समय शिवानी का । शायद एक किलोग्राम , बाल विकास विभाग के अधिकारी के रूप में मेरे लिये शर्मनाक घटना थी । पर कभी भाग्य ही साथ न दे तो हम क्या कर सकते हैं । अक्सर डॉक्टर्स से उसके मज़बूत होने वजन बढ़ाने के तरीके घर के सभी लोग पूछा करते थे । किसी भी स्थिति में डॉक्टर्स कोई तरीका न खोज पाए । आज भी दुःख होता है कि काश जन्म के समय उसका वजन 2.5kg होता शायद हमारी देखभाल में कोई बड़ी कमी रही होगी । 
शिवानी पढ़ने में तेज थी पर गणित से मेरी तरह 36 का नाता था उसका । 10वीं क्लास में शिवानी ने कहा दिया था कि वह साइंस नहीं पढ़ेगी । मेरा समर्थन पा कर बहुत उत्साहित थी  ।
कॉमर्स एवम आर्ट्स  के बच्चों के प्रति सामाजिक नज़रिया बहुत निगेटिव रहा था । मुझे  भी ज्ञानी जन ज्ञान देना और उलाहना देना नहीं भूलते थे । कुछ तो यह तक कहा करते थे - क्यों आप ने बच्ची की बात सुनी कॉमर्स में क्या स्कोप हैं । हमारा बेटा या बेटी की उपलब्धियां देखिये , उनकी तपस्या देखिये आपने तो अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली । सायन्स पढ़ाना था बेटी को ..!
      मुझे उनकी अज्ञानता पर केवल मुस्कुराहट का सहारा लेना होता था । मेरी पत्नी को भी बेटी पर भरोसा था । और हम दौनों बच्चों को उनकी इच्छा के विरुद्ध कुछ भी नहीं स्वीकारना चाहते थे ।
 कृतज्ञ हूं शिवानी के गुरुजनों का जॉय किंडर गार्डन के श्री प्रवीण मेबैन जो मेरे मित्र भी हैं के स्कूल में शिवानी की शिक्षा प्रारंभ हुई कठोर अनुशासन मेहनत लगन के साथ श्री प्रवीण मेंबेन ने शिवानी में आत्मविश्वास जगाया तो फिर आगे की जिम्मेदारी निभाई जॉय सीनियर सेकेंडरी स्कूल ने जहां इसकी बुनियाद मजबूत हुई ।
शिवानी कंपनी में सिर्फ बीकॉम ऑनर्स अर्थात सामान्य सा कॉमर्स ग्रेजुएशन के दौरान ही Ey द्वारा कैंपस के जरिए सिलेक्ट कर ली गई ।
शिवानी Ey ग्लोबल में एसोसिएट चुनी गई मध्य प्रदेश से केवल दो बेटियां चुनी गई थी बच्चों का यह मानना है कि कॉमर्स में बहुत ज्यादा स्कोप नहीं होती परंतु ऐसा नहीं है भाग्य और उससे पहले अपनी मेहनत तथा सब के आशीर्वाद से आपकी खाते में जो लिखा है जो आपने अपने खाते में अपनी मेहनत से जो भी कुछ लिख लिया है उसकी बदौलत आप सब कुछ हासिल कर सकते हैं शिवानी छह माह के बाद फिर वापस आएगी साल में कम से कम एक बार 6 माह के लिए उसे विदेश में कहीं ना कहीं जाने का यह दूसरा अवसर है

मित्रों बेटियों को सशक्त बनाने के लिए उन्हें अवसर देने की जरूरत है और उससे ज्यादा जरूरत है उन पर विश्वास करने की मुझे अपनी बेटी पर पूरा भरोसा था परंतु मैंने शिक्षण संस्था का चुनाव करने से पहले अपनी बेटी को यह समझा दिया था कि अगर आईपीएस इंदौर में मुझे कोई विशेषता ना दिखी तो हमें जबलपुर वापस किसी सरकारी कॉलेज में प्रवेश लेना होगा बेटी ने सहमति दी इंदौर के कई कॉलेजेस में मैंने विजिट किया एक कॉलेज ने मुझे बताया कि उनके कॉलेज में अभिषेक बच्चन आते हैं तो मेरा प्रतिप्रश्न था कि क्या आपका कॉलेज दंत मंजन है या कोई प्रोडक्ट जिसमें हम जैसे मध्यम वर्गीय लोगों को आकर्षित करने के लिए आप फिल्म स्टारों को बुलाते हैं मुझे लगता है कि आपका कॉलेज मेरी बेटी के लायक नहीं है ऐडमिशन इन चार्ज मुझे बाहर तक मनाने की कोशिश करने आए किंतु मेरा दृढ़ निश्चय था कि ऐसे संस्थान जहां यह कोशिश की जाती होगी सीटों को बेचने के लिए विभिन्न तरह के हथकंडे अपनाकर अभिभावकों को मोहित करना और बेवकूफ बनाना उनका मौलिक सिद्धांत हो उन कॉलेजेस में संस्थानों में बच्चों को प्रवेश दिलाने की जरूरत क्या है ।
  मैंने बहुतेरे कालेजों में भ्रमण किया वहां के बच्चों का ज्ञान स्तर नापा उन से चर्चा करके अंत में जब आईपीएस अकैडमी मऊ रोड इंदौर गया । मुझे लगा वहां भी ऐसा ही कुछ होगा तू बड़े बेरुखी मन से अपनी श्रीमती और बेटी से कहा तुम लोग फार्म खरीद कर लाओ तब तक मैं बच्चों से बात करता हूं ।
फिर बच्चों से बातों का सिलसिला शुरू किया ।
भारत की इकोनामिक फॉरेन पॉलिसी पर चर्चा की ।
भारत के इकोनामिक डेवलपमेंट पर साथ ही साथ भारत की व्यवसायिक एवं वित्तीय स्थिति पर चर्चा में बच्चों ने बेहद उत्साह के साथ जवाब दिए तब जा कर मैं मैंने अपनी बेटी का दाखिला कराने का मन बना लिया ।
अपने बुजुर्गों के आशीर्वाद का मेरी मातोश्री स्वर्गीय सब्यसाची प्रमिला देवी बिल्लौरे पिताश्री काशीनाथ जी बिल्लौरे सभी बुजुर्गों का का आशीर्वाद है मेरी दोनों बेटियां बेटों से कम नहीं इतना ही नहीं मेरी बेटियां मेरे कार्य क्षेत्र में भी मौजूद है एक से एक संघर्षशील और अपने कार्य के प्रति सजग आत्मविश्वास से भरी हुई बाल भवन में मुझे मिलती है मैंने प्रयास से ही किया है कि जितना ज्यादा सबल हम बेटियों को बनाएंगे उतना अधिक यह देश तरक्की करेगा विजन बिल्कुल साफ है महिला सशक्तिकरण की बात से पहले अपनी बेटी को सक्षम बनाने की सोच को विकसित करने की जरूरत है ।
मुझे विश्वास है कि ना सिर्फ आप शिवानी को आशीर्वाद देंगे बल्कि आप भी अगर कहीं कमजोर महसूस करते हैं की बेटी है तो उसे एक्स्ट्रा संरक्षण की जरूरत है मुझे नहीं लगता की बेटियां कमजोर है आपको उस से संभल देते रहना होगा और उसे जीवन प्रबंधन की स्केल से भर देना होगा

Saturday, September 15, 2018

हिंदी दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी


  संभागीय बालभवन एवं नेहरू युवा केन्द्र भारत सरकार द्वारा संयुक्त रूप से हिंदी दिवस का आयोजन दिनाँक 14 सितंबर 2018 को बालभवन जबलपुर में आयोजित किया गया । इस अवसर पर *हिंदी में बाल साहित्य लेखन* विषय पर एक विचार गोष्ठी अतिथि माननीय मंत्री श्रीयुत शरद जैन जी कहां थी बच्चों के समग्र विकास के लिए मातृभाषा एवं भारतीय भाषाओं की विकास की आवश्यकता है सिर्फ रोटी की भाषा नहीं है हिंदी बल्कि संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास की भाषा है हिंदी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं क्षेत्रीय भाषाओं के प्रति हमारा सम्मान और निष्ठा जरूरी है .
            कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रुप में पंडित सुशील शुक्ला सदस्य जिला योजना समिति एवं अध्यक्ष बाल भवन सलाहकार एवं सहयोग समिति शुभ अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि संपूर्ण विकास के लिए भाषा की शुद्धता की आवश्यकता को नकारा नहीं जा सकता अतः आवश्यक है कि हम सतत रूप से भाषाई विकास हिंदी के प्रति अपने स्नेह भाव को बनाए रखें श्री मनीष शर्मा जिला कार्यक्रम अधिकारी ने कहा:-  समस्त भाषाओं के प्रति सम्मान के साथ साथ हिंदी भाषा के विकास तथा उसका तकनीकी में समावेश का आवश्यक है. उन्होने  बच्चों को बताया कि हिंदी का विकास हमारी भावनाओं और संकल्प पर आधारित है हम अपने विकास के साथ-साथ अपनी मातृभाषा को भुला कर सबसे बड़ी गलती करेंगे . ।
             आयोजन में नगर के वरिष्ट कवि श्री मोहन शशि,ने कहा कि - बाल भवन एवं नेहरू युवा केंद्र का यह प्रयास निसंदेह अनुकरणीय है जो बच्चों के बीच इस तरह की गतिविधियां निरंतर आयोजित कर रहे हैं तथा सफल हो रहे हैं ऐसे प्रयास निरंतर जारी रहे । डॉक्टर संध्या जैन "श्रुति" ने कहा कि राज हिंदी भाषा ना केवल राजभाषा है बल्कि यह आत्मा की आवाज भी है जिसका विकास परिस्थितिवश उच्च गति पर नहीं पहुंच पाया जिस गति पर पहुंचाना चाहिए इसके लिए सतत प्रयासों को निरंतरता देनी आवश्यक है ,  इरफान झांस्वी भाषाई साहित्य और विकास के लिए हिंदी के प्रति एक सकारात्मक नजरिया जरूरी है
                  इस अवसर पर बाल साहित्यकारों कु. वैशाली बरसैंया, देवांशी जैन, उन्नति तिवारी,नूतन श्रीवास्तव ,  प्रकृति राव आदि अपने-अपने विचार एवं कविताएं प्रस्तुत की उन्हें आयोजकों द्वारा पुरस्कार स्वरूप श्री मोहन शशि की कृति बेटे से बेटी भली भेंट की गई तथा अन्य पुरस्कार प्रदान किए गए ।
                 कार्यक्रम का संचालन कुमारी उन्नति तिवारी ने किया तथा आभार प्रदर्शन वरिष्ठ अनुदेशक श्रीमती रेनू पांडे द्वारा किया गया कार्यक्रम में अपनी अभिव्यक्ति देते हुए नेहरू युवा केंद्र के जिला समन्वयक श्री धीरज अग्रवाल ने नेहरू युवा केंद्र की गतिविधियों की चर्चा करते हुए 
7-दिवसीय स्किल डेवलपमेंट ट्रेनिंग के संबंध में विस्तृत जानकारी दी इस अवसर पर श्री पंकज चौरसिया एवं हेमंत चंद्रोल ने अपने विचार व्यक्त किए । 
                   कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत श्री देवेंद्र यादव श्री सोमनाथ सोनी द्वारा किया गया कार्यक्रम के सफल आयोजन में श्री अतुल पांडे लेखा अधिकारी नेहरू युवा केंद्र का विशेष योगदान रहा । 






Saturday, August 25, 2018

जनजागरण के लिए आगे आया संभागीय बालभवन जबलपुर


*बालभवन जबलपुर की बाल प्रतिभाओं पॉक्सो के प्रचार प्रसार हेतु खुद साबित किया*

पुलिस कन्ट्रोल रूम जबलपुर में श्रीमति सुप्रिया सिंह के मुख्य आतिथ्य एवं श्रीमति प्रज्ञा सिंह की अध्यक्षता तथा श्रीमति शुभश्री के विशिष्ट आतिथ्य में *पुलिस परिवार की महिलाओं एवं बच्चो के साथ बाल यौन शोषण के विरूद्ध जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया*. जिसमे पुलिस परिवार के 18 वर्ष से कम आयु की बालिका तथा महिलायें बड़ी संख्या मे उपस्थित हुई.
पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय मे पदस्थ सहायक महानिरीक्षक सुश्री अंजूलता पटले ने कार्यक्रम का उद्देश्य बताते हुये बताया कि अधिकतर यौन शोषण हमारे बीच के पारिवारिक सदस्यों, अति घनिष्ट व्यक्तियों, परिचितों, पड़ोसियों द्वारा किया जाता है. हमें एैसे लोगों से सर्तक एवं सवाधान रहना है व अपनी बातों को अपने निकटतम परिजन को बताय ेंताकि बाल यौन शोषण के विरूद्ध समाज की मानसिकता को हम सब मिलकर बदल सके.

महिला बाल विकास के अधिकारी अखिलेश मिश्रा एवं मनीष त्रिपाठी द्वारा लाडो अभियान एवं सामेकित बाल संरक्षण योजना के बारे मे विस्तृत जानकारी दी गयी. बच्चों को कोमल एंव सत्यमेव जयते फिल्म का प्रदर्शन कर उन्हें गुड टच एवं बैड टच के प्रति संवेदनशील बनाया गया. *लाडो अभियान की ब्राण्ड एम्बेस्डर इशिता विश्वकर्मा द्वारा मुझे क्या बेचेगा रूपईया एवं संम्भवी पाण्डया एवं उनकी टीम द्वारा ओरी चिरईया गीत का प्रस्तुतीकरण किया गया. श्रेया खण्डेलवाल एवं उन्नति तिवारी ने आपसी संवाद स्थापित कर बडी रोचक शैली मे सारगर्भित रूप से बैड टच के खिलाफ आवाज उठाने के तरीके अपनी हम उम्र संगिनियों को बताया*. कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन थाना प्रभारी मदनमहल श्रीमति प्रीति तिवारी द्वारा किया गया. कार्यकम की रूप रेखा तैयार कर कार्यक्रम से सम्बंधित विभागों से समन्वय स्थापित करने मे अति पुलिस अधीक्षक शहर पश्चिम राजेश कुमार त्रिपाठी की महत्वपूर्ण भूमिका रही.
*बैड टच में प्रतिरोध करे बालिकाएं*
मुख्य अतिथि के रुप में आईजी अनंत कुमार सिंह की पत्नी श्रीमति सुप्रिया सिंह ने कहा कि कोमल हृदय को झंझोरने वाले असामाजिक तत्वों पर नियंत्रण करने के लिये प्रथम बैड टच में ही प्रतिरोध कर बालिकाऐं अपना बचाव कर सकती है
*डर के आगे जीत है*
कार्यकम की अध्यक्ष एसपी अमित सिंह की पत्नी श्रीमति प्रज्ञा सिंह ने बच्चों से कहा कि डर के आगे ही जीत है, पुलिस प्रशासन आपके साथ है, बच्चों बस हर शोषण का आपको विरोध करना है.
*हैल्प लाइन नम्बरों की मदद लें*
कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि एएसपी दीपक शुक्ला की पत्नी श्रीमति शुभश्री ने सोशल मीडिया एवं सायबर क्राईम के बारे मे बतलाया तथा बच्चों के तार्किक प्रश्नों का उत्तर उक्त पैनल के द्वारा दिया गया. जब ममता ने पूछा कि यदि हमें कोई लड़का सड़क चलते छेड़े तो हमें क्या करना चाहिये, पैनल ने कहा कि आप तत्काल चाईल्ड हैल्प लाईन नम्बर 1098, महिला हैल्प लाईन 1090, डायल 100, कोडरेड का उपयोग कर सकते है.
*गलत संदेशों को साफ कराए*
10 वर्षिय उत्तम ने पूछा कि स्कूलों में अपशब्द लिखे रहते है, जिन्हें पढ़ कर अच्छा नहीं लगता, हमारी बहने भी गर्दन नीचे कर लेती है. जिस पर पुलिस अधीक्षक अमित सिंह ने कोडरेड प्रभारी उनि निकिता शुक्ला को जिला शिक्षा अधिकारी से समन्वय स्थापित कर इन गलत संदेशों को शीघ्र साफ कर स्वच्छ एवं सुरक्षित वातावरण स्कूलो मे स्थापित करने हेतु निर्देशित किया.
*मासूम बच्ची ने किया सवाल, चोर से क्यों डरते हैं*
6 वर्षिय छोटी सी मासूम बच्ची ने पूछा चोर से क्यो डरते है, पुलिस अधीक्षक श्री सिंह ने कहा कि चोर डरपोक होता है इसलिये रात में छिपकर आता है, आपको चोर से डरना नहीं चाहिए ।
*आयोजन के समन्वयक के रूप में श्री सोमनाथ सोनी एवम श्रीमति रेणु पांडे की भूमिका की भूरि भूरि सराहना पुलिस प्रशासन द्वारा की गई संवादी सत्र में श्रीमति रेणु पांडे ने भी अपनी सहभागिता दी*

Thursday, August 16, 2018

समय से आगे का चिंतक महात्मा अटल

आज स्तब्ध हो जाना लाज़िमी है जिसकी अवधारणा थी कि डेमोक्रेटिक सिस्टम में हिंसा और वैमनस्यता का कोई स्थान न नहीं । एक कवि के अतिरिक्त शायद ही कोई इतना नरम रुख रखता हो एक सियासी होने के बावज़ूद । 
हिंसा के विरुद्ध एक समरस वातावरण निर्माण की कोशिश को ये देश याद रखेगा ।
अटल बिहारी वाजपेयी जी के जबलपुर आगमन पर हम युवा पीढ़ी के लोग अक्सर उस सभा में ज़रूर जाते थे । मैं तो उनकी मानवीय संवेदनाओं पर आधारित जीवन क्रम का प्रभाव देखना चाहता था । उनके वक्तव्यों में समकालीन परिस्थितियों के लिए सामाजिक सहिष्णुता के लिए जो भी कंटेंट्स होते थे सृजन के विद्यार्थी के रूप में मेरे अनंत तक उतरती थी । वक्तता के रूप में अपनी ओर सम्मोहित करने के मुद्दे पर विश्व के महान वक्ताओं में श्रीमती इंदिरा जी , ओपराह विनफ्रे मार्टिन लूथर किंग, के ऊपर रखता हूँ । क्योंकि वे जो कहते थे उसे जीते भी थे उनकी जिव्हा से निकली ध्वनि कोरे शब्द न थे उनमें सत्यबोधित हो जाने के सहज गुण मैने ही नहीं सभी ने महसूस किए ही होंगे । उनको सियासी नज़रिये से न देख पाऊंगा क्योंकि उनकी छवि अधिसंख्यक भारतीयों में साहित्यकारों की थी । उनकी कविताओं को ध्यान से समझा जाए तो वे मानवीय मूल्यों का पोषण करती नज़र आती हैं । वे हिंदू थे पर हिंदुत्व के समरसता वाले पहलू के पैरोकार थे यानी आध्यात्मिक से भरे थे लबाल6ब ।
1980 में जन्मी मुखर सियासी कवायद के पूर्व से ही उनका कद सांसद के रूप में बड़ा था ।

*आज यानि 16 अगस्त 2018 को बालभवन जबलपुर के बच्चों ने उनके शतायु होने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की चित्रकला कक्ष में उनके रेखाचित्र बनाए गए
अटलजी के जीवन मूल्यों को आत्मसात करके ही हम विश्व में आगे ला सकतें हैं अटल जी के जीवन दर्शन में समरसता उनकी सम्मोहन शक्ति का आधार है

अटलजी को समर्पित कविता

मस्तैला अलबेला कवि था
प्रखर मुखर नवयुग का रवि था
^^^^^^^^
नवचिंतन , अध्ययन के दिन थे
तबसे तुमसे है मिलना जारी ।
मस्ताने वक्ता तबसे ही तुमसे
अपनी चली आ रही है यारी ।।
रिश्ता जाने क्या दुनियाँ वाले
इक कविता का अपने कवि का ।।
*****
न देखा छूकर ही है तुमको
न ही सनमुख संवाद किया है ।।
जितना अब तक बोला है मैंने -
तेरा सब कुछ हुआ दिया है ।।
दुश्मन से भी रार न पाली
असर तुम्हारे प्रखर कवि का ।।
*******
वर्ष सतत्तर याद है मुझको
विश्व मंच पर अभिव्यक्ति का ।
लोहा मनवाया था तुमने तब
इस भारत की शक्ति का ।।
मुस्काए जब बुद्ध विश्व हतप्रभ
मरुथल में हुआ उदय नए रवि का
^^^^^^
*गिरीश बिल्लोरे मुकुल*


Wednesday, August 15, 2018

खुद से अधिक राष्ट्र के लिए सोचना चाहिए

संभागीय बालभवन जबलपुर में प्रात: 08:00 बजे संचालक बालभवन द्वारा ध्वजारोहण किया । तदुपरांत याशिका तिवारी,प्रत्युषा तिवारी,शिवानी नामदेव,अनुश्री तिवारी,जानवी सोनी,अन्वेषा गुप्ता,आरना दुबे,दिव्यांशी अग्रवाल आदि ने राष्ट्रीय एवम भावात्मक गीतों की प्रस्तुति दी । 
इस अवसर पर संचालक बालभवन गिरीश बिल्लोरे ने बच्चों से बात करते हुए कहा कि देश के विकास के लिए सबके महत्व को समझना चाहिए । दूसरों को कमज़ोर बना के किसी का विकास नहीं होता देश का भी नहीं । खुद से अधिक राष्ट्र के लिए सोचना और कार्य करना चाहिए । अब बालभवन का अर्थ सभी बच्चे और अभिभावकों से छिपा नहीं है । इसके लिए सभी गुरुजन की मेहनत है कि बालभवन जबलपुर में जाना और पहचाना जा रहा है बच्चों, अभिभावकों, को धन्यवाद देते हुए अनुदेशकों क्रमशः: श्रीमती रेणु पांडे, डॉ शिप्रा सुल्लेरे, श्री देवेन्द्र यादव एवम श्री सोमनाथ सोनी की क्षमता की सराहना की ।
इस अवसर पर संचालक ने बताया कि बच्चों के लिए 7000=00 रुपये की खेल सामग्री प्रदान कर श्री सुशील शुक्ला अध्यक्ष बालभवन सहयोगिनी एवम सलाहकार समिति ने देकर जो कार्य किया है वो अनुकरणीय है । नाट्यलोक के सहयोग से आयोजित कार्यशाला में नाश्ते हेतु डॉ संध्या जैन श्रुति एवम श्री सतीश बिल्लोरे द्वारा एक एक हज़ार रुपये की देकर सहयोग दिया । 
अंत में सहकर्मियों सहित सभी का आभार व्यक्त करते हुए सभी को शुभकामनाएं दीं ।

*मनीषा तिवारी* 
*छात्रा, मास कम्युनिकेशन एवम जर्नलिज़म RDVV जबलपुर पूर्व छात्रा सम्भागीय बालभवन जबलपुर*

Monday, August 13, 2018

स्वतंत्रता दिवस 2018 के अवसर पर बच्चों के नाम संदेश

प्रिय  बच्चो
           वंदेमातरम
अगस्त क्रांति सरदार उधम सिंह खुदीराम बोस की शहादत के दिनों की याद दिलाता है बच्चो 200 से अधिक साल गुलाम भारत ने आज़ादी की सावनी फुहारों में जश्न मनाया था । इस आज़ादी की कीमत त्याग, तपस्या, कुर्बानी, थी आज़ादी के आंदोलन में विश्व को भारत की सहिष्णुता एवम अहिंसा का परिचय भी मिला ।
जो इस आज़ादी को जाति धर्म वर्ग, वर्ण, क्षेत्र , भाषा के आधार पर बांटकर देखना चाहते हैं वे भारतीय होकर भी भारतीय नहीं लगते ।
बालभवन एक प्रयोगशाला है जहां सबके साथ एकता का पाठ में भी आपके साथ पढ़ रहा हूँ । सबके बच्चों और उनके गुरुजन मेरे लिए मुझसे अधिक आवश्यक एवम श्रेष्ठ हैं । आदरणीय गुरुजनों को नमन करता हूँ ।
मुझे यकीन है कि इस बार हम दो से भी अधिक बालश्री एवार्ड जीतेंगे । पूरे राष्ट्र में यह आंकड़ा 2 से 4 या अधिक हो जाता है तो जबलपुर एवम विभाग के लिये गौरव होना लाज़िमी है ।
यहां गुरुजनों श्रीमती रेणु जी, डॉ शिप्रा, श्री देवेन्द्र यादव, एवम श्री सोमनाथ सोनी की श्रेष्ठता बेजोड़ एवम अद्वितीय है । इन प्रतिभा वान गुरु जनों को मेरा नमन
बच्चो ,
बालभवन जबलपुर को स्मार्ट बालभवन बनाना है देश के माननीय प्रधानमंत्री जी के सपनों को साकार देने हम इस वर्ष श्री उज्जवल वाघ जी के सहयोग से एक वेबसाइट बना ली है जिसका लोकार्पण 17 अगस्त 2018 को होगा । जिससे ऑनलाइन एडमिशन, एवम जानकारी सबको मिल सकेगी । वेबसाइट के ज़रिए डिस्टेंस प्रशिक्षण, तक का कार्य भावी कार्यक्रम में शामिल किया जा रहा है इस वर्ष बालभवन में सी सी टीवी सुरक्षा की दृष्टि से लगाए गए जिससे इस वर्ष बच्चों की सायकलें न तो चोरी गईं न ही उनमें बाहरी तत्वों द्वारा छेड़ छाड़ न हुई । अवांछित तत्वों का प्रवेश भी रुक गया है ।
इस वर्ष बालभवन जबलपुर ने राजा मानसिंह तोमर विश्वविद्यालय की परीक्षाएं सफलता पूर्वक सम्पन्न कराईं गईं जिसमें सीनियर छात्रों का सहयोग सराहनीय है । सीनियर छात्र छात्राओं का हर कार्यक्रम में समर्थन एवम सहयोग किसी भी संस्थान की सकारात्मक कार्य विधि का परिचय है ।
माननीय मंत्री जी श्री शरद जैन जी , के प्रति कृतकृत्य है जो अप्रत्यक्ष एवम प्रत्यक्ष रूप से बालभवन के लिए सदभावना पूर्ण हो कर मदद करते हैं ।
मान. सदस्य जिला योजना समिति तथा अध्यक्ष बालभवन सलाहकार समिति श्री सुशील शुक्ला जी , श्रीमती श्रद्धा सत्येंद्र शर्मा, श्री अरुनकान्त पांडे, श्री इरफ़ान झांस्वी, श्री अरुण पांडे, श्रीमती तापसी नागराज , सुश्री शैलजा सुल्लेरे, सहित कई कलाकारों साहित्यकारों का हर स्तर पर सपोर्ट मिल रहा है ।
संयुक्त संचालक सूचना प्रकाशन जबलपुर तथा नगर के सभी समाचार माध्यमों के माननीय संपादक गण, संवाददाता गण हमारे लिए वरदान हैं जिनके कारण हमारी गतिविधियों को जबलपुर जान पाया है ।
आकाशवाणी, से हमारी भी गतिविधियों की जानकारी समाज को मिलती है उनके द्वारा माह में एक बार फुलवारी कार्यक्रम का निर्माण बालभवन में होना किसी उपलब्धि से कम नहीं ।
संचालक जवाहर बालभवन श्री नगाइच सर के मार्गदर्शन में हम सभी आगे बढ़ रहे हैं ।
जबलपुर में वरिष्ठ अधिकारी संयुक्त संचालक महिला बाल विकास सुश्री सीमा शर्मा जी एवम उपसंचालक श्रीमति मनीषा लुम्बा जी का समय समय पर हमें सपोर्ट एवम स्नेह मिलता है ।
इस वर्ष बालभवन जबलपुर ने श्री संजय गर्ग, नाट्यलोक जानकीरमण महाविद्यालय के सहयोग से पुनः 2 नाटक का निर्माण तथा मंचन कराया गया जो सभी के लिए उत्साहित करने वाली खबर है ।
इस वर्ष कलेक्टर जबलपुर श्रीमती छवि भारद्वाज एस पी श्री अमित सिंह, दैनिक नई दुनियाँ श्री ड गुरुदयाल सिंह, यूनिट प्रमुख , श्री अनूप शाह, संपादक नई दुनियाँ, पीयूष बाजपेयी सुश्री अनुकृति श्रीवास्तव श्रीमति अर्चना ठाकुर आदि भारत रक्षा पर्व में उपस्थित रहे । बालगृह के 30 बच्चों सहित 1200 राखियाँ सीमा पर तैनात सैनिकों को भेजी गईं ।
बालभवन जबलपुर के ग्रीष्म कालीन शिविर में 500 से अधिक बच्चों की उपस्थिति उपलब्धि ही है ।
नाटक, संगीत, चित्रकला, एवम तबला विधाओं में कई उपलब्धि हासिल की हैं जो बिना जन सहयोग के सम्भव नहीं था ।
बच्चों हम अपनी इन सफलताओं का श्रेय ईश्वर और वीर स्वतंत्रता सेनानियों को देंगे जिसने हमारे देश को 70 साल पहले आज़ादी दिलाई । साथ ही उन सैनिकों को जिनने अपने जीवन की परवाह किये बिना सीमाओं की रक्षा की और पाकिस्तान तथा चीन के नापाक इरादों से देश की रक्षा की ।
स्वतंत्रता पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
आपका
गिरीश बिल्लोरे
संचालक
संभागीय बालभवन जबलपुर


Sunday, August 5, 2018

भारतरक्षा पर्व : कलेक्टर तथा व एसपी ने भी सैनिकों के लिए लिखे सन्देश

      
 स्लम की प्रतिभा  मास्टर तरुण अहिरवार ने आखिर अपने सैनिक के साथ डीएम साहिबा

 का फोटो करवा ही लिया .  
 जागरण पत्र समूह द्वारा 6 वर्षों से चलाई जा रही है एक मुहिम जिसे  भारत रक्षापर्व  के नाम से जाना जाता है. 02 अगस्त 2018 को जबलपुर से सैनिकों के लिए शहर भर के शैक्षिक संस्थानों स्वयम सेवी संगठनों से रक्षा-सूत्र एकत्र करते हुए रक्षा पर्व रथ को संभागीय बालभवन जबलपुर से भोपाल के लिए 
कलेक्टर छवि भारद्वाज व एसपी अमित सिंह ने रथ को हरी झंडी दिखाकर भोपाल के लिए रवाना किया गया ।
समापन संभागीय बाल भवन में किया गया। जहां कलेक्टर छवि भारद्वाज व एसपी अमित सिंह ने रथ को हरी झंडी दिखाकर भोपाल के लिए रवाना किया। बाल भवन में हुए समापन समारोह में नईदुनिया परिवार से यूनिट हैड गुरुदयाल सिंह, संपादक अनूप शाह के साथ संभागीय बाल भवन के संचालक गिरीश बिल्लौरे उपस्थित रहे । बाल भवन के बच्चों ने देशभक्ति गीतों से सजी प्रस्तुतियां डॉ.शिप्रा सुल्लेरे के निर्देशन में दी ।  



डॉ. रेणु पांडे के निर्देशन में बच्चों ने राखियां और कार्ड बनाकर सीमा पर तैनात सैनिक भाइयों के लिए भेजे । कार्यक्रम की आयोजना में श्री देवेन्द्र यादव एवं श्री सोमनाथ सोनी की विशेष भूमिका थी.

बाल भवन से लगभग हजार राखियां सैनिक भाइयों के लिए भेजी गईं। कलेक्टर छवि भारद्वाज ने बाल भवन के बच्चों की प्रतिभा को सराहा ।
उन्होंने कहा कि नईदुनिया के भारत रक्षा पर्व अभियान से जुड़ना गर्व की अनुभूति है। एसपी अमित सिंह ने कहा कि सैनिक बाहरी तौर पर हमारी रक्षा कर सकते हैं लेकिन समाज, घर-परिवार में आंतरिक रूप से रक्षा हम लोगों को ही करना है। इसलिए हम संकल्प लें कि यदि किसी विवाहित महिला से राखी बंधवाते हैं तो प्रण करें कि हर विवाहित स्त्री का सम्मान करेंगे। इसी तरह यदि अपनी छोटी बहन से राखी बंधवाते हैं तो प्रण लें कि उनकी उम्र की या उससे छोटी सभी बहनों व बेटियों की रक्षा करेंगे .
कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज तथा व एसपी श्री अमित सिंह ने भी लिखे सन्देश
सीमा पर तैनात सैनिकों के लिए कलेक्टर जबलपुर एवं पुलिस अधीक्षक जबलपुर ने भी सन्देश लिखकर इस अभियान को उंचाई प्रदान की .

एसपी श्री अमित सिंह  को  समारोह स्थल पर आता देख बाल भवन के एक नन्हें बच्चे ने कहा :- ये असली पुलिस है क्या..?
एस पी अमित सिंह ने उस बच्चे के भोलेपन पर आकर्षित होकर उस बताया :- “हाँ.. बेटा असली है... और प्यार से गले लगाया साथ ही उसे अपनी कैप पहना कर पूछा – आप भी पुलिस बनोगे .

    कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज को लौटाया उनके बालपन में बेटियों ने
 दिन भर की व्यस्तता एवं प्रशासनिक दायित्वों का निर्वाहन करना अपने आप में कठिन साधना है. पर अगर बच्चों से आप घिरे तो समझिये आपकी थकान ही निकल जाती है. कुछ ऐसा ही हुआ कलेक्टर श्रीमती छवि भारद्वाज के साथ . वे जब वापस जा रहीं थीं तो बालिकाओं ने सैल्फी की इच्छा ज़ाहिर की उनकी सहमती मिलते ही बेटियों ने खूब सैल्फी ली डी एम साहिबा के साथ.
रिपोर्ट: सुश्री अनुकृति श्रीवास्तव, श्रीमती अर्चना ठाकुर, के साथ श्री पियूष बाजपेई 

Friday, August 3, 2018

बम फोड़ने वाला डिसीप्लीन इंचार्ज सागर सोनी


कोई ऐसा न होगा जिसने बचपन में कोई शरारत न की हो . अगर कोई बच्चे से शरारत का एकाधिकार छीनता है तो मुझे कोफ़्त अवश्य होती है.मेरी नज़र में शरारत पर बच्चों का एकाधिकार होना चाहिए चाहिए क्या होता ही है. पर उन गार्जियंस एवं अभिभावकों से असहमत हूँ जो तानाशाह की तरह बच्चे के इस नैसर्गिक अधिकार यानी शरारत के अधिकार को छीनते हुए अपने विचार थोंपते हैं. ऐसे अभिभावकों एवं शिक्षकों को जान लेना चाहिये कि सबसे अधिक शरारत करने वाले बच्चे सबसे अधिक क्रिएटिव होते हैं. इसके दो उदाहरण मैंने 2014 से बालभवन में आने के बाद देखे . एक है अक्षय ठाकुर शरारत का बफर स्टाक था ये बालक जब सुना था कि भाई को बालभवन के नाट्य-निर्देश भाई संतोष राजपूत जी ने प्ले से हटा दिया था. खेल टीचर जिन पर अनुशासन बनाए रखने की भीषण जवाब देही बाय डिफाल्ट होती है से भाई अक्षय ने किसी मुद्दे पर नाराज़ होकर अपनी नाराज़गी को डिफ्यूज करने की गरज से बालभवन में भयानक टाइप का सुतली बम फोड़ा पकड़ा भी गया सज़ा भी मिली . ये वही बच्चा है जो अब एम.पी.एस.डी. भोपाल का विद्यार्थी है. नाटक की लगन इसे ऐसा विद्यार्थी बना दिया है जो खुद कर कर के बहुत कुछ सीख चुका जाने कितने नाटक लिखे किये जुनून ऐसा कि 104 डिग्री बुखार भी न रोक पाया एक्टिंग करने से 

हाँ तो आइये वापस आते हैं उसी के नक्श-ए-क़दम पर चलने वाले सागर सोनी पर लड़ाई झगड़े में अव्वल सागर ( Sagar Soni ) ने एक बार खेल टीचर देवेन्द्र यादव जी से नाराज़ होने पर खेल कक्ष में बम फोड़ने की योजना बनाई यादव जी की चौकन्नी नज़र से सम्हाल कर सागर ने अगरबत्ती में बम को ऐसे सेट किया कि बम तब फूटे जब वो घर पहुँच कर किसी काम में व्यस्त हो जाए. उसके साथ शुभम , अंकित उर्फ़ टमाटर, आकाश राठौर , विशाल , यश गुप्ता इस षड्यंत्र के राज़दार थे . 
जब बम ब्लास्ट हुआ तब तक सागर सोनी की पतंग आकाश में गोते लगा रही थी . शुभम ने ज़ल्द ही राज़-फाश कर दिया . सागर को बुला कर मैंने उसका कुछ दिनों के लिए बालभवन में प्रवेश वर्जित भी किया. 
घर जाकर बड़ी मासूमियत से सागर ने बताया कि – कितनी गलत बात है ताई जी, बताओ किसी लड़के ने बालभवन की टायलेट में बम फोड़ा . 
सभी उसकी दी गई खबर से दुखी भी हुए. ताई जी को भी बहुत पीढ़ा हुई . परिवार सागर की मासूमियत को तब जान पाया जब सागर की माताजी को बुला कर बताया गया कि – बम ब्लास्टिंग का असली विलेन सागर ही है. उसे कुछ दिनों के लिए बाल भवन से सस्पैंड किया है. अब उसे वापस आने की अनुमति है. आप ज़रा ध्यान रखिये. जब माँ ने सागर की ताई जी को यह खबर दी तो ताई जी ने झाडू से शरारत का भूत उतारा . पूरे परिवार ने सागर की जम के क्लास भी ली. कुछ दिनों पहले ही सागर के पिता जी का उनको छोड़ कर जाना मेरे लिए भी दुःख का कारण था. सागर जैसे बच्चे गीली मिट्टी होते हैं हम सभी के मन में सागर के लिए गहरी संवेदनाएं भी थीं . 
16 साल की उम्र पूर्ण होने पर सागर को 2017 में बालभवन से जाना पड़ा . तब तक सागर ने बॉबी में बेहतरीन अभिनय कर मेरे सपने को पूरा किया. मुझे विश्वास है कि जो जितना शरारती होता है वो ख़ास तरह की आतंरिक उर्जा से भरा होता है. सागर ने मेरी थ्योरी की पुष्टि की अक्षय की तरह . 
सागर ने अब थियेटर को ज़िंदगी का अहम मक़सद बना लिया है. नाट्यलोक संस्था के साथ जुड़कर थियेटर में सक्रीय है सागर गंभीर भी है . आज यानी 3 अगस्त 2018 को स्कूल ग्रेसियस कान्वेंट की ड्रेस में हमसे मिलने आए इस किशोर की जेब के उपर “डिसीप्लीन-इंचार्ज” की नाम पट्टी देख मुझे बेहद खुशी हुई . परन्तु हमने मज़ा लेते हुए उससे सवाल किया .. भाई तुमको डिसीप्लीन इंचार्ज किसने बनाया . और फिर देर तक बीते दिनों के किस्से ताज़ा हो गए. हम सब देर तक हँसते रहे सागर मस्ती के किस्से सुनाता रहा

Saturday, July 21, 2018

बाल विकास भविष्य के आदर्श भारत की आधारशिला है : पूर्व महाप्रबंधक भारतीय रेल सेवा डॉ आलोक दवे



          "बच्चों में सदाचार वृत्तियों का बीजारोपण करने का दायित्व माता-पिता का ही है । बदलते परिवेश में अब अधिक सजगता एवम सतर्कता की ज़रूरत है ।आज संचार माध्यमों के ज़रिए जो कुछ भी हासिल हो रहा है उससे बच्चों पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को लेकर हर अभिभावकों में चिंता व्याप्त है । अब ज़रूरत है 5 से 10 वर्ष की आयु तक के बच्चों से सतत संवाद करते रहने की क्योंकि हर बच्चा अनमोल है" - तदाशय के विचार पूर्व महाप्रबंधक भारतीय रेल सेवा डॉ आलोक दवे ने बालभवन में आयोजित *बदलते सामाजिक परिवेश में अभिभावकों के दायित्व* विषय पर आयोजित आमंत्रित  अभिभावकों के सम्मेलन में बोल रहे थे । श्री दवे सेवा निवृत्ति के उपरांत सत्य साईं सेवा समिति में बालविकास की गतिविधियों के लिए मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रभारी भी हैं ।


सम्मेलन का शुभारंभ करते हुये संस्कार शिक्षा प्रशिक्षक (मानसेवी) डॉ. अपर्णा तिवारी, ने बालभवन में 2010 से संचालित संस्कार कक्षाओं का संक्षिप्त विवरण देते हुए सम्पूर्ण बाल विकास में बच्चों के लिए संस्कार शिक्षा की उपयोगिता एवम औचित्य पर विस्तार से विचार रखे । श्रीमती पुनीता उपाध्याय ने विजुअल माध्यम से पॉवर-प्वाइंट प्रजेंटेशन के ज़रिये बच्चों के लिए के दायित्वों का तथ्यात्मक विश्लेषण करते हुए बच्चों के प्रति जागरूक किया ।

आयोजन के दौरान प्रशिक्षण खेलों का अभ्यास भी कराया गया । इस एक दिवसीय कार्यक्रम में प्रशिक्षण सहभागिता श्रीमती सीमा इसरानी , श्रीमती ज्योति नायडू, श्रीमती भारती , श्रीमती कुंदा, विरुढ़कर सुश्री प्रियंका मौज़ूद थीं ।
अतिथियों का सम्मान डॉ शिप्रा सुल्लेरे, श्री देवेंद्र यादव, श्री सोमनाथ सोनी द्वारा तिलक लगाकर एवम श्रीफल भेंट कर किया गया । आयोजन के लिए सहायक संचालक बालभवन गिरीश बिल्लोरे द्वारा आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम के आयोजन में श्री टी आर डेहरिया एवम श्री धर्मेंद्र, श्रीमती सीता ठाकुर  का विशेष योगदान उल्लेखनीय रहा ।




LOCATION

LOCATION
BALBHAVAN JABALPUR