Saturday, July 21, 2018

बाल विकास भविष्य के आदर्श भारत की आधारशिला है : पूर्व महाप्रबंधक भारतीय रेल सेवा डॉ आलोक दवे



          "बच्चों में सदाचार वृत्तियों का बीजारोपण करने का दायित्व माता-पिता का ही है । बदलते परिवेश में अब अधिक सजगता एवम सतर्कता की ज़रूरत है ।आज संचार माध्यमों के ज़रिए जो कुछ भी हासिल हो रहा है उससे बच्चों पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को लेकर हर अभिभावकों में चिंता व्याप्त है । अब ज़रूरत है 5 से 10 वर्ष की आयु तक के बच्चों से सतत संवाद करते रहने की क्योंकि हर बच्चा अनमोल है" - तदाशय के विचार पूर्व महाप्रबंधक भारतीय रेल सेवा डॉ आलोक दवे ने बालभवन में आयोजित *बदलते सामाजिक परिवेश में अभिभावकों के दायित्व* विषय पर आयोजित आमंत्रित  अभिभावकों के सम्मेलन में बोल रहे थे । श्री दवे सेवा निवृत्ति के उपरांत सत्य साईं सेवा समिति में बालविकास की गतिविधियों के लिए मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रभारी भी हैं ।


सम्मेलन का शुभारंभ करते हुये संस्कार शिक्षा प्रशिक्षक (मानसेवी) डॉ. अपर्णा तिवारी, ने बालभवन में 2010 से संचालित संस्कार कक्षाओं का संक्षिप्त विवरण देते हुए सम्पूर्ण बाल विकास में बच्चों के लिए संस्कार शिक्षा की उपयोगिता एवम औचित्य पर विस्तार से विचार रखे । श्रीमती पुनीता उपाध्याय ने विजुअल माध्यम से पॉवर-प्वाइंट प्रजेंटेशन के ज़रिये बच्चों के लिए के दायित्वों का तथ्यात्मक विश्लेषण करते हुए बच्चों के प्रति जागरूक किया ।

आयोजन के दौरान प्रशिक्षण खेलों का अभ्यास भी कराया गया । इस एक दिवसीय कार्यक्रम में प्रशिक्षण सहभागिता श्रीमती सीमा इसरानी , श्रीमती ज्योति नायडू, श्रीमती भारती , श्रीमती कुंदा, विरुढ़कर सुश्री प्रियंका मौज़ूद थीं ।
अतिथियों का सम्मान डॉ शिप्रा सुल्लेरे, श्री देवेंद्र यादव, श्री सोमनाथ सोनी द्वारा तिलक लगाकर एवम श्रीफल भेंट कर किया गया । आयोजन के लिए सहायक संचालक बालभवन गिरीश बिल्लोरे द्वारा आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम के आयोजन में श्री टी आर डेहरिया एवम श्री धर्मेंद्र, श्रीमती सीता ठाकुर  का विशेष योगदान उल्लेखनीय रहा ।




Monday, July 2, 2018

सुशील शुक्ला ने दी बाल भवन के बच्चों के लिए खेल सामग्री


पंडित सुशील शुक्ला ने दी बाल भवन के बच्चों के लिए खेल सामग्री 
      माननीय सदस्य  जिला योजना समिति  एवं पार्षद श्री सुशील शुक्ला जो बालभवन सलाहकार एवं सहयोगी समिति के अध्यक्ष हैं द्वारा बालभवन के बच्चों के लिए लगभग रूपए  7000 /- की  खेल सामग्री प्रदान की गई. 
संभागीय बालभवन में नाट्यगतिविधियों को बढ़ावा देने विगत दो वर्षों से   नाट्यलोक द्वारा बच्चों को नि:शुल्क रूप से श्री जानकी रमण महाविद्यालय में  प्रशिक्षण दिया जा रहा है जिसके फलस्वरूप बॉबी, मिला तेज़ से तेज़, लौट आओ गौरैया , प्लास्टिक के प्रयोग को रोकने गणपति बप्पा मोरया, एवं पोट्रेट नाटकों का निर्माण एवं मंचन संस्कृति विभाग के सहयोग से श्री जानकी रमण म.वि. की रंगड्यौढ़ी पर किया जा चुका है. नाट्य-प्रशिक्षण में शामिल बच्चों  को  आहार हेतु डा संध्या जैन श्रुति श्री सतीश बिल्लोरे द्वारा व्यवस्था की गई  . साथ ही विवेचना रंग मंडल के श्री अरुण पांडे के सहयोग से नाट्य नवरात्र में बाल एवं महिला कवयत्री सम्मेलन सहित कई प्रस्तुतियां नाट्य नवरात्र के तहत की गईं. साथ ही 5 जून को पर्यावरण दिवस का आयोजन म.प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एवं 21 जून को ग्रीष्मकालीन योग शिविर का समापन भी नेहरू युवा केंद्र जबलपुर के सौजन्य से संपन्न हुआ. 
 संचालक संभागीय बालभवन द्वारा इस वर्ष बालोपयोगी साहित्य के ग्रंथालय के लिए व्यक्तियों, संस्थाओं से किताबें उपलब्ध कराने की अपील की जाती है ताकि बच्चों के सर्वांगीण विकास में अधिकाधिक जन भागीदारी जुटाई जा सके . 

Sunday, June 24, 2018

बाल नाट्य शिविर : व्यक्तित्व विकास का असाधारण टूल

बाल नाट्य शिविर : व्यक्तित्व विकास का असाधारण टूल
GIRISH BILLORE “MUKUL”
आप हजारों रुपये फीस देकर व्यक्तित्व विकास के कुछ एक बिंदु उपलब्धी स्वरुप हासिल कर सकते हैं पर रंगकर्म के ज़रिये जितना ज़ल्द और सटीक लाभ मिलताहै उतना अनुमान हमने कभी न लगाया था था . इसके कई उदाहरण हैं हमारे पास . यह निष्कर्ष तीन साल के प्रयोग के बाद लिख रहा हूँ
नाट्यलोक  जबलपुर Natya Lok Sanstha में लगभग 20 सालों से सक्रीय रंगकर्मियों का समूह है. जो बालभवन जबलपुर के साथ वर्ष 2014 से सतत सक्रीय है. पर ऐसा नहीं कि वे हमारे साथ मेरे पदभार ग्रहण करने पर ही सक्रीय हुए बल्कि उनका सहयोग 2007 से ही बालभवन के बच्चों के लिए रहा है. उस दौर के बच्चों में Akshay ThakurShalini Ahirwar Tarun ThakurAnshul Sahu सहित न जाने कितने बच्चे अब प्रोफेशनल आर्टिस्ट की सूची में शुमार हो गए हैं. नाट्यलोक  संस्था के अलावा VIVECHNA RANGMANDALArun Pandey जी, भाई संतोष राजपूत,  सहित शहर के नामचीन रंगकर्मियों ने बालभवन के साथ बहुत काम किया. लेकिन 2014 के बाद Sanjay Gargजी से मेरा समझौता हुआ . समझौता क्या मेरा एक प्रस्ताव था संजय गर्ग जी के सामने  कि आप बच्चों को थियेटर की शिक्षा दीजिये . एक समर्पित एवं संवेदित निर्देशक ने मेरी बात को बिना असमर्थता का रोना रोए सहमती तपाक से दे दी . फिर क्या था प्रशिक्षण का सिलसिला 2015 के आते आते शुरू हो गया. इस बीच अरुण पाण्डेय जी के दुर्गा नाटक में बालिकाओं का चयन प्रशिक्षण भी प्रारम्भ ही था. तब तक 2017 में मिला तेज़ से तेज़बॉबीलौट आओ गौरैया जैसे नाटकों का निर्माण पूर्ण हो चुका था. और सभी तैयार नाटकों के से अधिक शो भी आयोजित हो चुके थे इस बीच दुर्गा में बाल कलाकारों ने अपनी आमद भी दर्ज करा दी थी. इतना ही नहीं कुमारी Shreya Khandelwal को एक रियलिस्टिक फिल्म में काम मिला
इन सभी बाल कलाकारों के बालभवन में प्रवेश से अब तक के विकास क्रम पर निगाह फेरी तो पता चला कि इनका व्यक्तित्व आत्मविश्वासीएवं मज़जूत होता जा रहा है. नवम्बर 2017 से बालभवन की पूर्व छात्रा मनीषा तिवारी ने जो फेसबुक पर Mani Tiwari के नाम से मौजूद है ने बच्चों को नाट्य प्रशिक्षण देना आरम्भ किया. अप्रैल 2018 में बच्चों के परिक्षा से लौटते ही पूरे उत्साह से नाट्य कक्षा नियमित रूप से प्रारम्भ हो गई . सम-विसम सहयोग-विरोध मान-अपमान के बीच हमने काम जारी रखा . तथा बालभवन के बाद प्रशिक्षण श्री जानकी रमण महाविद्यालय में सुचारू रूप से जारी रहा. और तैयार हुए दो नाटक एक पोलीथीन के प्रयोग को रोकने का सन्देश देने वाला नाटक गणपति बप्पा मोरया {लेखक निर्देशक : संजय गर्ग एवं पोट्रेट (लेखक मैं यानि गिरीश निर्देशक श्री संजय गर्ग ) उक्त नाटकों का निर्माण मध्य-प्रदेश शासन के संस्कृति विभाग के वित्त पोषण से हो सका.  सुधीजनों .... इन नाटकों के बाल कलाकारों ने 45 से 46.5 डिग्री तापमान की परवाह किये बिना जिस जज़्बे के साथ नाटकों को समझा और खुद को पात्र में रचाया बसाया वो उनके मुखर प्रखर होने का प्रमाण है.  इन सभी नाटकों में लाइव म्यूजिकल इफैक्ट लाने में DrShipra Sullere की टीम ने जो काम किया उसे देख कर मेरा मन अत्यधिक भावुक है. संभव होता तो दुनियाँ की सारी संपत्ति ऐसी प्रतिभाओं न्यौछावर  कर देता. पर जो बन सका मैंने किया. 
शेष सचाई ये है कि बच्चों के व्यक्तित्व के विकास के लिए रंगकर्म से बड़ा टूल कोई नहीं . दरी फट्टे से लेकर मंचन तक Davinder Singh Grover भाईतैलंग जीIndra Kumar Pandey Ravindra Murhar #विनय_शर्मा सहित समूचे नाट्य लोक परिवार का योगदान अविस्मर्णीय रहा है. मेरे मित्र प्राचार्य श्री जानकीरमन महा विद्यालय श्री अभिजात कृष्ण को भूलना ना मुमकिन है 
दौनों नाटकों ने दौनो दिन आसानी से हजार के आसपास दर्शक जुटा ही लिए है. अतिथि के रूप में श्री कपिल देव मिश्र कुलपति जी rdvv तो मुझे देखते बालभवन को नाटकों को नाट्यलोक को यकबयक याद कर लेते हैं  
अस्तु मैं श्रद्धानत हूँ इन सबका . उनका भी आभारी हूँ जो इस संकल्प को रोकने दर दर भटक आए . और हमें इस बात का ज्ञान करा दिया कि- दुनियाँ ईश्वरीय सत्ता के अधीन थी है और रहेगी  ॐ श्री रामकृष्ण हरि:  आपका स्नेही  गिरीश बिल्लोरे मुकुल Mukul Gkb

संभागीय बाल भवन में नाद योग से ताल योग प्रदर्शन के साथ सम्पन्न हुआ योग संगीत दिवस

संभागीय बाल भवन जबलपुर में नेहरू युवा केन्द्र जबलपुर  एवं  बाल भवन के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित  योग एवं संगीत  दिवस विविध गतिविधियों  के साथ  सम्पन्न  हुआ  
जिसमेंओमकार नाद योग” सूर्य नमस्कार चित्रकला तालबाद्य जुगलबंदी के साथ योग चित्रों का रेखांकन किया गया  
साथ ही योग क्विज एवं संपूर्ण योगाभ्यास  प्रदर्शन की प्रस्तुति भी कार्यक्रम काविशेष आकर्षण रहा  कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रीमती मनीषा लुम्बा संभाउप संचालक  महिला बाल विकास ने की तथा 
मुख्य अतिथि के रूप में सुशील शुक्ला अध्यक्ष  बालभवन  सलाहकार एवं सहयोगी समिति रहे  माननीय सांसद श्री राकेश सिंह  की ओर से संदीप जैनश्रीमती श्रृद्धा शर्मा, सत्येन्द्र शर्मा, नरेन्द्र गुप्ताराजेश ठाकुरश्रीमती भारती  रूसिया  सहित 150 से  अधिक बच्चे उपस्थित थे    कार्यक्रम को संबोधित करते हुए  अध्यक्ष श्रीमती मनीषा लुम्बा ने  बच्चों एवं युवकों  को योग  के  प्रादुर्भाव से लेकर अब तक की  विकास यात्रा  का सम्मोहक  विवरण प्रस्तुत किया तथा योग क्रियाओं का महत्व भी बताया  
 योग गुरू देवेन्द्र यादव का सत्कार अतिथियों द्वारा किया गया तथा योग गुरू द्वारा सूर्य नमस्कार एवं योग  क्रियाओं का प्रदर्शनप्राणायाम, ध्यान कराया गया                  श्रीमती रेणु पाण्डे के निर्देशन मेंअंतर्राष्ट्रीय योग प्रोटोकाल पर केन्द्रित चित्र कु. सुनीता केवटजया मोर्यसृष्टि सुहानेविनायकसोनीआशी खण्डेलवालभानू नामदेवरितिकनामदेवआर्या दुबेपारूल बाधदीपाली ठाकुरसोनाली ठाकुरकरन जामुलकरशुभ सुहाने आदिकलाकार बच्चों द्वारा श्री सोमनाथ सोनी तबलासंगतकार के निर्देशन में प्रफुल श्रीवासविशेष शर्माश्रेयांश बिरहासंकल्प परांजपेदेवविश्वकर्मासूर्यभान सिंह ठाकुर ताल वाद्य वादन पर योग केन्द्रित चित्रों का निर्माण किया  डॉ क्षिप्रा सुल्लेरे के संगीत निर्देश में नयन सोनीसजल सोनीकरन द्विवेदीआकर्ष जैनसानिध्य पचौरी,सात्विक पचौरीआयुष रजकयशी तिवारी हर्ष सोंधियाआशुतोष रजकराजबर्धन पटैल एवं संगत कु. मनु कौशलसमीर सराठे द्वारा संत कबीर के भजन का गायन किया गया  कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना एवं अतिथियों  के  स्वागत सत्कार से  हुआ   
अतिथियों का स्वागत अतुल पाण्डे नेहरू युवाकेन्द्रनवीन शिवाइग्नू एवं युवा केन्द्र के कार्यकर्ता कु. माधवी रैकवार,  हिमांशु गुप्ताराजेश सिंह सहित बाल भवन के स्टाफ द्वारा किया गया  
कार्यक्रम का संचालन बाल कलाकार एवं वक्ता  मा. धवल शाह एवं मा. अभिषेक यादव द्वारा मनोरंजन ढंग से किया गया   दोनों एंकर्स ने स्पॉट क्विज में योग पर  केन्द्रित सवाल पूछकर  10 बच्चों एवं  प्रतिभागियों को पुरस्कृत कराया तदुपरांत अतुल पाण्डे नेहरू युवा केन्द्र ने आभार प्रदर्शन किया 

Friday, April 27, 2018

*राजभवन में बालभवन की प्रतिभाओं की दस्तक*




राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने राजभवन कर्मचारियों के बच्चों के पाँच दिवसीय समर साइंस महोत्सव के समापन पर कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताओं और महोत्सव के आयोजन से बच्चों की प्रतिभा को उभारने और देश की रक्षा तथा राष्ट्र-भावना को विकसित करने का अवसर प्राप्त होता है। उन्होंने मध्यप्रदेश को देश का सबसे पहला टीबी मुक्त प्रदेश बनाने में सहयोग का आव्हान करते हुए सभी नागरिकों से अपनी इच्छा से टीबी से ग्रस्त एक बच्चे को गोद लेने की बात कही। उन्होंने कहा कि हमारे देश और प्रदेश के बच्चों का भविष्य सुधारने के लिए सबको एकजुट होकर कार्य करना होगा।

राज्यपाल ने प्रतियोगिता में विजेता बालक-बालिकाओं को पुरस्कार वितरित किये। महोत्सव मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद एवं जवाहर बाल भवन के सहयोग से 23 से 27 अप्रैल तक किया गया। परिषद की ओर से सभी बच्चों को टेलीस्कोप भेंट किये गये ।

राज्यपाल ने कहा कि विश्व के चीन,जापान जैसे विकासित देश के नागरिकों की तरह हमें अपने देश को स्वस्थ बनाने के लिए जागरूकता अभियान चलाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राजभवन के कर्मचारियों के बच्चों को जेल का निरीक्षण कराया जायेगा, जिससे बच्चे अपराधियों को मिलने वाली सजा तथा कैदियों के रहन-सहन, खान-पान को देखकर स्वयं गलत काम करने से बच सकें ।

परिषद के महानिदेशक श्री नवीन चंद्रा ने कहा कि आगे से इस प्रकार के कार्यक्रम में गणित विषय को भी शामिल किया जायेगा । जवाहर बाल भवन के संचालक डा उमाशंकर नगायच  ने कहा कि सोशल मीडिया के इस युग में बच्चों को परिवार वालों से जोड़ने और उनमें अकेलेपन की भावना को दूर करने के लिये इस प्रकार के महोत्सव जरूरी है। ऐसे आयोजन से बच्चों की रचनात्मक और साहित्यिक प्रतिभा को प्रोत्साहन मिलता है ।

बाल कला साधकों को प्रदेश के इतिहास में पहली बार राजभवन में प्रवेश एवम भ्रमण का अवसर मिला । इस अवसर पर सुप्रसिद्ध कलाकार श्री राज सैनी द्वारा बनाया गया महामहिम राज्यपाल महोदया का चित्र भेंट किया गया । कार्यक्रम के सफल आयोजन में सहायक संचालक श्री सजन सिंह कठैत सहित श्री राज सैनी, सुनील श्रीवास्तव एवं अरविन्द शर्मा की सक्रिय मौजूदगी उल्लेखनीय रही ।


Thursday, April 26, 2018

बालश्री प्रतिभागियों को प्रोत्साहन राशि

 संभागीय बाल भवन महिला बाल विकास जबलपुरद्वारा राष्ट्रीय बालश्री एवार्ड हेतु 21 से 24 अप्रैल तक नई दिल्लीमें आयोजित अंतिम चयन शिविर में जबलपुर से 8, अनूपपुर से1, मंडला 2, नरसिंहपुर 1, सिंगरौली 1, सिवनी 2, कुल 15 बच्चेशामिल हुए  । राष्ट्रीय बाल भवन द्वारा प्रत्येक बच्चे के लिए प्रेषित5-5 हजार रूपए की राशि का वितरण 27 अप्रैल को शाम 4 बजेहोगा ।

इस मौके पर सुशील शुक्ला अध्यक्ष बाल भवन सलाहकारएवं सहयोगी समिति की अध्यक्षता एवं श्रीमती उपासनाउपाध्याय, डॉक्टर संध्या जैन श्रुति, मनीष शर्मा जिला कार्यक्रमअधिकारी महिला बाल विकास के आतिथ्य में आयोजित है ।  इस अवसर पर श्रीमती श्रद्धा शर्मा, पुनीत मारवाह सहायकसंचालक, एस.ए. सिद्दीकी, इरफान झांरवी, संजय गर्ग, अरूणकांत पाण्डेय विशेष रूप से मौजूद रहेंगे ।
प्रोत्साहन निधि पाने वाले बच्चों में जबलपुर से कुमारी वैशाली बरसैंया (साहित्य संवाद), अंकित बेन (संगीत-तबला),देवांशी जैन (साहित्य कहानी), बीनस खान (साहित्य लेखन), शिखा पटेल (कला हस्तकला), साक्षी साहू (संगीत गायन), अंकुरविश्वकर्मा (कला मूर्तिकला), राजश्री चौधुरी (विज्ञान मॉडल), मंडला से क्रमश: कु. अजिता रूपेश (साहित्य संवाद एवं नाटक),कु. सिमरन श्रीवास्तव (साहित्य कविता), सिवनी से क्रमश: प्रतीक सनोडिया (साइंस मॉडल-मेकिंग), ओसीना शर्मा (विज्ञानपरियोजना कार्य), अनूपपुर से राहुल कोल (संगीत गायन),नरसिंहपुर से कु. सपना पटेल (साहित्य गद्य), सिंगरौली मेराजअहमद (विज्ञान मॉडल मेकिंग) आदि शामिल हैं ।  इसकेअतिरिक्त उत्कृष्ट सेवाओं के लिए अनुदेशकों, कार्यालयीन स्टाफको भी प्रोत्साहित किया जायेगा ।

क्रमांक/249/अप्रैल-249/मनोज

Monday, April 23, 2018

नई दिल्ली बालश्री राष्ट्रीय चयन शिविर संपन्न



बालश्री 2018 के लिये नई दिल्ली में देश भर के बच्चे 20 अप्रैल 2018 से 23 अप्रैल 2018 तक अंतिम चयन शिविर में एकत्र हुए । संभागीय बालभवन जबलपुर ( Balbhavan Jabalpur) एवम नरसिंगपुर सिवनी मंडला अनूपपुर सिंगरौली जिलों से चयनित प्रतिभागी 15 बच्चे भी शामिल हुए । वरिष्ठ अनुदेशक डा शिप्रा सुल्लेरे  एवम श्री देवेंद्र यादव   के नेतृत्व में नई दिल्ली पहुंची टीम में शामिल बालकलाकारों ने बताया है कि उनकी विभिन्न राउंड में हुई कठिन परीक्षा से वे बेहद उत्साहित हैं । बच्चों को सफलता की उम्मीद है . 
 सभी बच्चों को बालभवन जबलपुर में लगातार महीनों प्रशिक्षण दिया गया ।   मध्यप्रदेश का नाम रौशन करने के लिए बच्चों का देश के 700 से अधिक बच्चों के साथ कड़ा मुकाबला था ।
मध्यप्रदेश के सागर भोपाल इंदौर उज्जैन तथा जबलपुर संभागों से कला साहित्यिक संगीत विज्ञान आदि विधाओं की उपविधाओं क्रमशः गायन, वादन, अभिनय, नृत्य, विज्ञान मॉडल, विज्ञान प्रोजेक्ट, कहानी, क्रिएटिव लेखन, कविता संवाद  आदि  में दावेदारी प्रस्तुत की है । 
जबलपुर से सर्वाधिक 4 वर्ग में से 3 बच्चे साहित्य विधा के लिए चयनित हुए । इस हेतु बालभवन जबलपुर की सलाहकार एवम  सहयोगी समिति के अध्यक्ष श्री सुशील शुक्ला, सदस्य श्रीमती श्रद्धा शर्मा , श्री अरुण पांडे, श्री अरुणकान्त पांडे, श्री संजय गर्ग, डॉ संध्या जैन एवम शैलजा सुल्लेरे ने अग्रिम शुभकामनाएं प्रेषित की हैं ।

Tuesday, April 17, 2018

बालभवन को अधिक सुविधा संपन्न बनाया जावेगा : पंडित सुशील शुक्ला


संभागीय बालभवन की नवगठित सलाहकार एवम समिति की प्रथम बैठक में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते हुए समिति अध्यक्ष श्री सुशील शुक्ला ने कहा - विगत 3 वर्षों में बालभवन जबलपुर में सतत सांस्कृतिक साहित्यिक एवम सृजनात्मक गतिविधियों से अपना स्थान बनाया है वो अपने आप में उल्लेखनीय है । बच्चों में खासकर मध्यम एवम निम्न आय वर्ग के बच्चों के लिए यह केंद्र एक आदर्श प्रशिक्षण केंद्र बन चुका है , अब समिति की जिम्मेदारी है कि हम इसे और अधिक सुविधा संपन्न बनाएंगे । वरिष्ठ रंगकर्मी श्री अरुण पांडेय ने कहा कि - हम संसाधन जुटाने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे यह एक जरूरी संस्था है । जिसके कार्यों से सारा शहर खासकर बच्चे लाभान्वित हो रहे हैं । 

वरिष्ट स्वर साधिका श्रीमती तापसी नागराज, वरिष्ठ कलाकार श्री अरुणकान्त पांडे ने बाल कलाकारों की प्रशंसा करते हुए बालभवन में जनभागीदारी बढ़ाने का आश्वासन दिया । समाज सेवी दंपत्ति श्रीमती श्रद्धा शर्मा एवम विशेष आमंत्रित सदस्य श्री सत्येंद्र शर्मा ने अवगत कराया कि - सीमित साधनों में असीमित कोशिश कर बालभवन जबलपुर ने राष्ट्रीय स्तर पर जबलपुर का नाम रोशन किया है तो संस्कारधानी की जिम्मेदारी है कि ऐसी संस्था को हर संभव मदद की जावे । 

स्मार्ट सिटी परियोजना में बालभवन के प्रस्ताव को लाने के लिए संबंधित विभागों से समिति चर्चा करेगी । 
डॉ संध्या जैन श्रुति ने बताया कि - जबलपुर बालभवन ने साहित्यिक गतिविधियों को शामिल कर जो सफलता हासिल की वह उल्लेखनीय है । उन्होंने बालश्री एवार्ड के लिये नॉमिनेशन का उल्लेख करते हुए बताया कि - जबलपुर से 8 बच्चे राष्ट्रीय बालश्री एवार्ड के लिए चयनित हैं उनमें 3 बाल साहित्यकार हैं जबलपुर के लिए गौरव का विषय है। अतः साहित्य समुदाय से अनुरोध है कि वे बिना किसी आमंत्रण की प्रतीक्षा कर बाल साहित्य के विकास के लिए बालभवन को सहयोग कर सकते हैं । मध्यप्रदेश लेखिका संघ इस दिशा में सहयोगी होगी । वरिष्ठ नृत्य गुरु श्रीमती उपासना देव, नाट्य निर्देशक श्री संजय गर्ग इंद्र पांडे आदि ने भी बालभवन के विकास के लिये आश्वस्त किया । 
बैठक में डॉ शिप्रा सुल्लेरे श्रीमती रेणु पांडे शैलजा सुल्लेरे भी मौज़ूद थे ।

Sunday, April 15, 2018

*बालभवन जबलपुर में नाट्य प्रशिक्षण प्रारम्भ* जबलपुर 16 अप्रैल 2018



              
बाल नाट्य-शिविर हेतु 16 अप्रैल से 15 मई 2018 तक प्रशिक्षण शिविर के माध्यम से संभागीय बालभवन परिसर में प्रतिदिन दिया जावेगा. जबलपुर की प्रसिद्धि नाट्यलोक संस्था इस शिविर में विशेष सहयोग करेगी । यह संस्था बाल नाटकों के लिए कार्य कर रही है । तथा संभागीय बालभवन में 2007 से निरंतर संस्था का सहयोग जारी है । 
शिविर का संचालन बाल नाटकों के निर्देशक श्री संजय गर्ग एवं बाल-नाट्य निर्देशक कु. मनीषा तिवारी करेंगी. नाटकों में अभिनय, संवाद, पटकथा, कहानियों का नाट्यरूपान्तरण, तथा म्यूजिक पिट के माध्यम से लाइव म्यूजिक, मंच पर लाईट , साजसज्जा आदि की जानकारी के सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक अभ्यास को शिविर के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है. संभागीय बालभवन द्वारा नगर की विभिन्न नाट्य संस्थाओं एवं वरिष्ट रंगकर्मियों को भी शिविर में आमंत्रित किया जा रहा है. *शिविर में नाटकों प्रहसनों नुक्कड़ नाटकों की स्क्रिप्टिंग कथाओं के रूपांतरण एवम गीत लेखन के लिए स्वयम संचालक बालभवन के साथ डा संध्या जैन , श्री इरफ़ान झांस्वी, लाइट साउंड एवम मंच प्रबंधन का प्रशिक्षण श्री दविंदर सिंह ग्रोवर, श्री रविंद्र मुरहार, संगीत डॉक्टर शिप्रा सुल्लेरे, मुस्कान सोनी साक्षी गुप्ता 
शिविर की कार्यकारी संचालक कुमारी मनीषा तिवारी ने बताया कि- वर्ष2016- 17 में संभागीय बालभवन जबलपुर द्वारा *लौट आओ गौरैया (08 प्रस्तुतियां), बॉबी (07 प्रस्तुतियां ), तथा मिला तेज से तेज़ (06 प्रस्तुतियां )जैसे नाटकों का निर्माण एवं प्रस्तुति दी* जिनके अब तक एक दर्जन से अधिक शो भोपाल जबलपुर सिहोरा आदि स्थानों पर हो चुके हैं । 
बाल नाटकों से बच्चों के व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास संभावना को देखते हुए इस वर्ष ग्रीष्मावकाश में विशेष रूप से एक पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा है. जिसके अनुसार प्रतिभागी बच्चों को प्रशिक्षित किया जावेगा . प्रशिक्षण उपरांत बच्चों के द्वारा चुनी कहानी पर एक नाटक तैयार कराया जावेगा . शिविर से लगातार 3 दिन अनुपस्थित रहने पर प्रतिभागिता समाप्त कर दी जावेगी.



Friday, April 6, 2018

भोपाल में बालभवन जबलपुर के नाटक मिला तेज से तेज से शुरू होगा टंट्याबाबा छटवां बाल-नाट्य समारोह..!!


                           
 संभागीय बालभवन जबलपुर एवं नाट्यलोक के संयुक्त प्रयासों से वर्ष 16-17 में बॉबी, 17-18 में मिला तेज़ से तेज़ एवं लौट आओ गौरैया नाटकों का निर्माण किया गया . विजय तेंदुलकर के  बॉबी नाटक में कामकाजी दम्पति की बेटी के एकाकीपन और उसकी बालसुलभ बेचैनी का वास्तविक चित्रण है जो दर्शकों को भावुक कर देता है. इस नाटक के अबतक 5 शो आयोजित किये जा चुके हैं. जबकि मिला तेज से तेज स्व. सुभद्रा कुमारी चौहान के जीवन पर केन्द्रित है . इस नाटक के भी अब तक 5 शो किये जा चुके हैं. मिला तेज से तेज नाटक में डाक्टर शिप्रा सुल्लेरे के निर्देशन में  लाइव-म्यूजिक का प्रयोग उसे अधिक जीवंत बना देता है. इस वर्ष बालभवन ने पोट्रेट एवं गणपति बप्पा मोरिया, नाटकों के निर्माण का कार्य किया जा रहा है. सभी नाटकों के निर्देशन श्री संजय गर्ग एवं निर्देशन सहायक कुमारी मनीषा तिवारी (नवोदित नाट्य निर्देशक) होंगी. जबकि दो दर्जन  से  अधिक बच्चे इन नाटकों में मंच एवं मंच के पीछे से कार्य कर रहे हैं. बालभवन थियेटर विधा को इस कारण प्रमुखता देना चाहता है क्योंकि रंगमंच गतिविधियों से बच्चों के सर्वांगीण  विकास  के रास्ते तेज़ी से खुलते हैं . बच्चे झिझक एवं संकोच को सहज त्यागने में सफल हो जाते हैं.
                             दिनांक 09 अप्रैल 2018 को शहीद-भवन भोपाल में लोक गुंजन नाट्य संस्था के तत्वावधान में आयोजित टंट्याबाबा षष्टम  बाल-नाट्य समारोह शहीद भवन भोपाल में आयोजित है. जिसमें संभागीय बालभवन जबलपुर के नाटक मिला  तेज से तेज को आमंत्रित किया गया है. दिनांक 08 अप्रैल 18 को वरिष्ट नाट्य-निर्देशक  श्री संजय गर्ग, एवं श्री दविंदर सिंह ग्रोवर के नेतृत्व में 23 सदस्यीय दल भोपाल  प्रस्थान  करेगा. डॉक्टर शिप्रा सुल्लेरे के संगीत निर्देशन में लाइव संगीत एवं सुभद्रा जी के गीतों / कविताओं का समावेश इस नाटक को अन्य नाटकों से अलग साबित करता है.  मिला तेज से तेज नाटक जहां एक और सुभद्रा जी के बाल्यकाल को रेखांकित करता है वहीँ दूसरी ओर उनके द्वारा  जबलपुर में स्वतन्त्रता आन्दोलन को रेखित करता है. स्व. सुभद्रा कुमारी चौहान के बचपन की भूमिका जिम्मेदारी  बालिका अंजली गुप्ता एवं वयस्क आयु की भूमिका को कुमारी उन्नति तिवारी ने बखूबी निभाया है. 

LOCATION

LOCATION
BALBHAVAN JABALPUR