संदेश

मई, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पोट्रेट्स : बाल नाटिका

पोट्रेट्स निर्देशक :- श्री संजय गर्ग , सहयोग कुमारी मनीषा तिवारी संगीत    :- डा  शिप्रा सुल्लेरे सहयोग :- कु. मुस्कान सोनी, साक्षी लेखक    :- गिरीश बिल्लोरे एवं कु. वैशाली बरसैंया प्रापर्टी    :- लाईट इफैक्ट्स :- गायन :- प्रस्तुति :- संभागीय बालभवन जबलपुर मध्यप्रदेश       अक्सर उसे किसी न किसी को अपमानित करते अथवा किसी की चुगली करते देखना लोंगों का अभ्यास सा बन गया था .    सुबह दोपहर शाम निंदा और चुगलियाँ करना    उसके जीवन का मौलिक उद्देश्य था . कई लोगों ने कई बार सोचा कि उसे नसीहत दी जावे पर इस प्रकार का काम करने का लोग जोखिम इस वज़ह से नहीं उठाना चाहते क्योंकि वे जानते हैं कि अति के दुःखद परिणामों का आना निश्चित ही होता है . :::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: मैं अनुज  हूँ एक आर्टिस्ट मेरी उम्र पर मत जाना मेरे अनुभव से सीख ले सको तो सीख लेना........ आप क्या जानें मेरी अपनी इस छोटी से उम्र ने वो कुछ मुझे सिखाया है जो सौ साल जीने वालों को हासिल नहीं होता आसानी से .... मेरी उम्र जी मेरी उम्र ......... वर्ष है. मुझे याद है वो रात जब मैंने खुद को पहच

संभागीय बालभवन में अन्य जिलों से भी आ रहीं हैं बालप्रतिभायें

चित्र
SANAA  SHRI ANSH  सना परवीन मैहर में रहतीं हैं गायन और अभिनय का शौक सना को बालभवन जबलपुर की ओर खींच लाया. सना २०१६ से बाल भवन जबलपुर में पंजीकृत हैं. अपनी साधना से इस बेटी ने बॉबी नाटक में माँ का चरित्र निभाया . इमलिया गाडरवारा निवासी श्रीअंश विश्वकर्मा को पेंटिंग का शौक है अपनी ननिहाल में छुट्टी मनाने आए 12 वर्षीय  श्रीअंश को पेंटिंग का शौक है वे बालभवन पेंटिंग सीख रहे हैं .. सतना से आई 7  वर्षीय पृथा गुप्ता को चित्रकारी  क्लासिकल डांस का शौक है. SEJAL  15 वर्षीय सेजल तपा कटनी से आकर तबला सीख रहीं हैं . 2014 से बालभवन में पंजीकृत हैं . अवकाश के दिनों में वे कटनी से आना जाना करतीं हैं . सेजल ने 2014 , 2015, 2016 में बालभवन का प्रतिनिधित्व प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के लिए किया. बालाघाट की बेटियाँ आशिता एवं एत्रा तिवारी इस वर्ष संगीत के लिए पंजीकृत हुई हैं .  ETRA  PRUTHA GUPTA   15 वर्षीय विमल पटेल बढेरुआ मैहर जिला सतना से आकर पेंटिंग सीख रहे हैं नेत्र दिव्यांग कुमारी माया पटेल  सतना से , तथा मास्टर प्रवीन उद्दे मंडला से हैं दौनों ने ही राष्ट्री