अब के नव प्रभात में भोर की उजास में ...

अब के नव प्रभात में भोर की उजास में ...
हम लगें रहें सदा शांति के प्रयास में .....!

शांति पथ वास्ते ,गीत होने चाहिए 
प्रभावयुक्त गीत को सुर का साथ चाहिए ।
गूँजते रहें ये गीत , हम हों इस प्रयास में .॥

क्रोध और कुंठा के कारणों को मत सींचो
शांति के पथिकों के पाँव आप मत खींचो
प्रेम नींव विश्व की , मत जियो कयास में ॥ 





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बालभवन स्वतन्त्रता दिवस 2021 के अवसर पर आयोजित प्रतियोगिताएं

वीरांगना अवंति बाई लोधी का बलिदान : प्रो. आनंद राणा इतिहासकार,

मुख्यमंत्री निवास पर लाडो-अभियान की ब्रांड एम्बेसडर ईशिता विश्वकर्मा का गाया गीत “बापू मैं तेरी लाडो हूँ ...”