कविता : बालभवन


बड़े रौनक भरे होते हैं मासूमों के चेहरे -
वो जब गीत गाते हैं या फिर ब्रश चलाते हैं
***************
चहल-कदमी, शरारत शोरगुल से भरा आँगन
नृत्यशाला में मस्ती भरा वो झूमता बचपन
कुछेक मिट्टी सने करबद्ध नमस्ते करते हैं मुझको –
कोई कहता है – नहीं आया ! वो बुखार है उसको ।
वो आते हैं लुभा लेते हैं मुसकुराते हैं –
जनम दिन पर साथ वो टॉफी के आते हैं ....
बड़े रौनक भरे होते हैं मासूमों के चेहरे -
वो जब गीत गाते हैं या फिर ब्रश चलाते हैं
***************
अंकित काँपता था सुना जब यहाँ आया
किसी को था पसंद पर किसी को न था वो भाया
उसके कांपते हाथों ने प्रतिमाएँ गढ़ीं थी –
कुछेक जर्जर मिलीं कुछ ले गया वो जो उसने गढ़ीं थीं
दिव्यचक्षु कुछ बालिकाएँ   सुर  साधने  आतीं –
ये भी कह जातीं हैं कैसे ! हम जीत पाते हैं ...
बड़े रौनक भरे होते हैं मासूमों के चेहरे -
वो जब गीत गाते हैं या फिर ब्रश चलाते हैं
***************
  


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मध्यप्रदेश के बाल भवनों मैं ऑनलाइन एडमिशन एवं प्रशिक्षण की व्यवस्था प्रारंभ

महिला बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित पोषण सभा में पहुंचे माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी

बालगीत