राष्ट्रीय बाल-श्री सम्मान के लिए चयनित मास्टर शुभमराज अहिरवार दिल्ली रवाना


बालभवन जबलपुर से वर्ष 2013 के लिए राष्ट्रीय बाल-श्री सम्मान के लिए चयनित मास्टर शुभमराज अहिरवार आज दिल्ली के लिए रवाना हुए जहां  को आज बालभवन से अलंकरण प्राप्ति के लिए बिदा किया । 
20 अगस्त 1997 को जन्मे शुभम के पिता श्री जगदीश राज अहिरवार पेशे से सब्जी व्यापारी हैं . 2007 में बाल भवन में बेटे को उसकी रूचि देखते हुए संभागीय बाल भवन में प्रवेश दिलाया । रोज़ कमाने वाले जगदीश बच्चों के भविष्य को लेकर बेहद संवेदित हैं .
बच्चों को घरेलू आर्थिक परेशानियों से अप्रभावित रखने वाली शुभमराज माताजी श्रीमती कोमल का सपना है –“बच्चे के सारे सपने पूरे हों.... ! तीन भाईयों में शुभम सबसे बड़े बेटे शुभम जिसका रुझान बचपन से ही चित्रकारी में है जबकि अन्य छोटे भाई खेल और पढ़ाई में रुचि रखते हैं । शुभम का चित्रकला के प्रशिक्षण का सपना बाल-भवन ने पूरा किया । उसका मानना है हमें खुद के विकास के लिए अच्छे अवसर एवं अच्छे स्थान की तलाश करनी चाहिए मुझे बालभवन जबलपुर में आकर अपने सपने पूरा करने का मौका मिला मैं रोमांचित हूँ । अपनी सफलता का श्रेय माता पिता एवं बालभवन को देते हुए शुभमराज ने कहा की- बाल-भवन की अनुदेशिका श्रीमती रेणु पाण्डे के प्रभावी प्रशिक्षण एवं अनुशासन से ही मुझे राष्ट्रीय स्तर के इस पुरस्कार प्राप्त हुआ है । 

शुभमराज अहिरवार पंडित लज्जा शंकर झा उत्कृष्टता विद्यालय में 12 वीं कक्षा (गणित-विज्ञान) में अध्ययनरत हैं । 
इस उपलब्धि पर संभागीय उप संचालक श्रीमती मनीषा लुम्बा, संचालक बाल भवन गिरीश बिल्लोरे , शिप्रा सुल्लेरे, श्रीमती रेणु पांडे, इंद्र पांडे , देवेन्द्र यादव सोमनाथ सोनी, शुभम जैन, मुस्कान सोनी, साक्षी गुप्ता, सुनीता केवट,   श्री टेकराम आदि ने शुभकामनाएँ ज्ञपित की हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मध्यप्रदेश के बाल भवनों मैं ऑनलाइन एडमिशन एवं प्रशिक्षण की व्यवस्था प्रारंभ

महिला बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित पोषण सभा में पहुंचे माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी

बालगीत