लीची के गुच्छे लाया है !! श्री रूपचन्द्र शास्त्री मयंक, उत्तराखंड


हरीलाल और पीली-पीली !
लीची होती बहुत रसीली !!

गायब बाजारों से केले ।
सजे हुए लीची के ठेले ।।

आम और लीची का उदगम ।
मनभावन दोनों का संगम ।।

लीची के गुच्छे हैं सुन्दर 
मीठा रस लीची के अन्दर ।।

गुच्छा प्राची के मन भाया !
उसने उसको झट कब्जाया !!

लीची को पकड़ादिखलाया !
भइया को उसने ललचाया  !!

प्रांजल के भी मन में आया !
सोचा इसको जाए खाया !!

गरमी का मौसम आया है !
लीची के गुच्छे लाया है  !!

दोनों ने गुच्छे लहराए  !
लीची के गुच्छे मन भाए  !!

  • श्री रूपचन्द्र शास्त्री मयंक, उत्तराखंड  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मध्यप्रदेश के बाल भवनों मैं ऑनलाइन एडमिशन एवं प्रशिक्षण की व्यवस्था प्रारंभ

महिला बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित पोषण सभा में पहुंचे माननीय मुख्यमंत्री कमलनाथ जी

बालगीत